Birbhum Violence | बड़ी साजिश के तहत दिया गया बीरभूम हिंसा को अंजाम? रामपुरहाटी से 40 देसी बम बरामद

Birbhum Violence | बड़ी साजिश के तहत दिया गया बीरभूम हिंसा को अंजाम? रामपुरहाटी से 40 देसी बम बरामद

बीरभूम हिंसा पर विवाद के बीच जिसमें आठ लोगों की मौत हो गई थी, पश्चिम बंगाल पुलिस ने शनिवार को रामपुरहाट के पास मारग्राम से 40 कच्चे बम बरामद किए। बम एक निर्माणाधीन इमारत के पीछे छिपाए गए थे। जांच चल रही है।

बीरभूम (पश्चिम बंगाल)। बीरभूम हिंसा पर विवाद के बीच जिसमें आठ लोगों की मौत हो गई थी, पश्चिम बंगाल पुलिस ने शनिवार को रामपुरहाट के पास मारग्राम से 40 कच्चे बम बरामद किए। बम एक निर्माणाधीन इमारत के पीछे छिपाए गए थे। जांच चल रही है। बीरभूम के पुलिस अधीक्षक (एसपी) नागेंद्र नाथ त्रिपाठी ने कहा, "बीरभूम जिले के रामपुरहाट के मारग्राम में 40 कच्चे बम बरामद हुए। कच्चे बमों को चार बाल्टी में छिपाकर एक निर्माणाधीन घर के पीछे रखा गया था। जांच शुरू कर दी गई है।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव सपा विधान मंडल दल के नेता चुने गये, जनता से जुड़े ज्वलंत मुद्दे उठाएंगे

पश्चिम बंगाल के बीरभूम के रामपुरहाट इलाके में मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) नेता भादू शेख की हत्या के बाद भीड़ द्वारा घरों में आग लगाने के बाद कुल आठ लोगों की मौत हो गई। मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो कर रही है। 

केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) का एक दल पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले के बोगतुई गांव पहुंचा और उस हिंसक घटना की जांच शुरू की जिसमें आठ लोगों की जान चली गई थी। अज्ञात लोगों ने 21 मार्च को गांव में 10 घरों में आग लगा दी थी जिसमें महिलाओं और बच्चों समेत कम से कम आठ लोगों की मौत हो गई थी। लगभग 20 सदस्यों वाली सीबीआई की टीम उस घर के भीतर गई जहां जलकर खाक हुए सात लोगों के शव बरामद हुए थे।

इसे भी पढ़ें: राबड़ी देवी का नीतीश कुमार पर जोरदार हमला, बोलीं- मोदी के चरणों में गिर गए बिहार के मुख्यमंत्री

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने बीरभूम आगजनी मामले में अपनी प्राथमिकी में 21 संदिग्धों को नामजद किया है। पश्चिम बंगाल के बीरभूम के बोगतुई गांव में 21 मार्च को बदमाशों ने दस घरों में आग लगाकर महिलाओं और बच्चों समेत आठ लोगों की जान ले ली। अपनी प्राथमिकी में सीबीआई ने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि स्थानीय पंचायत के टीएमसी उप-प्रधान भादू शेख की हत्या का बदला लेने के लिए "प्रतिशोध" में हिंसा की गई थी। एक दिन पहले अज्ञात हमलावरों ने उन पर कथित तौर पर देसी बम से हमला किया था। इसके अलावा, प्राथमिकी में कहा गया है कि "70-80 लोगों की एक अनियंत्रित भीड़" ने पीड़ितों के घरों में तोड़फोड़ की और उन्हें "अंदर के लोगों को मारने की दृष्टि से" आग लगा दी।

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।