क्या है RSS मानहानि मामला, राहुल गांधी पर कौन से बड़े मानहानि के मामले हैं

By अभिनय आकाश | Publish Date: Jul 4 2019 4:09PM
क्या है RSS मानहानि मामला, राहुल गांधी पर कौन से बड़े मानहानि के मामले हैं
Image Source: Google

अपने बयानों की वजह से मुकदमों की श्रृंखला झेल रहे राहुल के खिलाफ महाराष्ट्र की भिवंडी कोर्ट में भी मामला लंबित है। साल 2014 में आरएसएस कार्यकर्ता राजेश कुंते ने महात्मा गांधी की हत्या के लिए कथित रूप से आरएसएस पर आरोप लगाने के लिए राहुल के खिलाफ याचिका दायर की थी।

कहते हैं कि मुंह से निकली बोली और बंदूक से निकली गोली वापस नहीं मुड़ सकती। राहुल गांधी ने 2017 में पत्रकार गौरी लंकेश की हत्या के बाद इसके लिए आरएसएस और उसकी विचारधारा को जिम्मेदार ठहराने वाला ट्वीट किया था। जिसके बाद एक आरएसएस कार्यकर्ता ने इसके लिए राहुल गांधी पर मानहानि का मामला दायर किया था। इसी मामले में कांग्रेस अध्यक्ष पद से मुक्त हुए राहुल गांधी मुंबई के शिवड़ी कोर्ट पहुंचे। जहां उन्हें 15 हजार के मुचलके पर जमानत मिल गई। राहुल ने कोर्ट में खुद को निर्दोष बताया। अब इस केस का ट्रायल चलेगा। अंग्रेजी की एक कहावत है फुट इन माउथ जिसका मतलब होता है गलत बयानी के बाद पछतावा करना। 

इसे भी पढ़ें: क्या वाकई गांधी मुक्त हो पाएगी कांग्रेस?

चुनाव में विरोधियों पर आरोप लगाना एक रस्म की तरह होता है, लेकिन भाषा और कानूनी दायरे के अंतर्गत रहकर बात करना एक परिपक्व और गंभीर राजनेता की निशानी होती है। राहुल गांधी को राजनीति में आए हुए डेढ़ दशक से भी ज्यादा का समय बीत चुका है और इस दौरान अपनी बयानबाजी की वजह से उन पर कई मामले अलग-अलग अदालतों में लंबित हैं। सुप्रीम कोर्ट से उन्हें हाल ही में ‘चौकीदार चोर है’ वाले बयान को लेकर फटकार भी मिली थी। राहुल गांधी के भाजपा और आरएसएस के प्रति तीखे बयानों की वजह से देश के अलग-अलग हिस्से में उनके खिलाफ मुकदमे दर्ज हैं। राहुल गांधी को इसी तरह के पांच मामलों में कोर्ट में पेश होना है।
क्या है पूरा मामला
आरएसएस कार्यकर्ता धृतिमान जोशी ने राहुल गांधी के खिलाफ पत्रकार गौरी लंकेश की 2017 में हुई हत्या का संबंध आरएसएस से जोड़ने वाले ट्वीट को आधार बनाते हुए मानहानि का मुकदमा दर्ज किया था। जोशी ने अपनी याचिका में तर्क दिया कि गौरी लंकेश की हत्या के 24 घंटों के बाद ही राहुल गांधी ने ट्वीट कर पत्रकार की हत्या के लिए कथित रूप से आरएसएस और उसकी विचारधारा को जिम्मेदार ठहरा दिया था। जोशी की शिकायत में लिखा कि सिर्फ राजनीतिक फायदे के लिए राहुल ने अनावश्यक रूप से आरएसएस का नाम घसीटा और यह कदम लोगों के मन में आरएसएस के खिलाफ नकारात्मक विचार लाने के उद्देश्य से उठाया गया है।
मुंबई के बाद पटना में पेश होंगे राहुल 
मुंबई की शिवड़ी कोर्ट से जमानत लेने के बाद राहुल गांधी 6 जुलाई को बिहार की राजधानी पटना के कोर्ट में पेश होंगे। पटना में बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने राहुल गांधी के खिलाफ मामला दर्ज कराया था। गौरतलब है कि राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के दौरान बिहार में दिए गए भाषण में कहा था कि सभी चोरों का नाम मोदी होता है। उन्होंने नीरव मोदी और ललित मोदी वाली लिस्ट में अन्य मोदी बिरादरी पर हमला बोल दिया था। जिसके बाद सुशील कुमार मोदी ने राहुल गांधी पर मानहानि का मुकदमा किया था।


गुजरात कोर्ट में तीन अलग-अलग मामलों में पेश होना है
पटना कोर्ट के बाद राहुल गांधी को नौ जुलाई को गुजरात के अहमदाबाद की एक कोर्ट में पेश होना है। इसके बाद 12 जुलाई को गुजरात की ही एक अन्य अदालत में आपराधिक मामले में पेश होना है। जिसके बाद 24 जुलाई को गुजरात के ही सूरत कोर्ट में पेश होंगे राहुल गांधी। इनमें क्रमशः हत्या आरोपी पार्टी प्रेसिडेंट, सारे मोदी चोर हैं जैसे बयानों को लेकर अदालत को जवाब देना होगा।
अपने बयानों की वजह से मुकदमों की श्रृंखला झेल रहे राहुल के खिलाफ महाराष्ट्र की भिवंडी कोर्ट में भी मामला लंबित है। साल 2014 में आरएसएस कार्यकर्ता राजेश कुंते ने महात्मा गांधी की हत्या के लिए कथित रूप से आरएसएस पर आरोप लगाने के लिए राहुल के खिलाफ याचिका दायर की थी। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video