जब 11 साल के बच्चे ने CM नीतीश से लगाई गुहार- सर सुनिए ना, हमको पढ़ना है... पिता पीते हैं शराब

nitish and sonu
ANI
अंकित सिंह । May 16, 2022 4:28PM
11 साल के सोनू ने अपने पिता और बिहार की शिक्षा व्यवस्था की भी मुख्यमंत्री के सामने पोल खोल दी। सोनू ने बताया कि उसके पिता दही बेचते हैं और जो भी आमदनी होती है, उसका शराब पी जाते हैं। उसने कहा कि बिहार के सरकारी स्कूलों में शिक्षा की स्थिति अच्छी नहीं है। स्कूल में ठीक से पढ़ाई नहीं होती है।

बच्चों का भोलापन और उनका आत्मविश्वास आपका दिल जीत लेती है। ऐसा ही एक बच्चा है बिहार का। उम्र 11 साल, नाम सोनू कुमार यादव। सोनू कुमार यादव ने जिस आत्मविश्वास के साथ अपनी समस्या को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बताया, उसके बाद से लगातार उसकी चर्चा हो रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी दिवंगत पत्नी मंजू सिन्हा की 16 वीं पुण्यतिथि के मौके पर नालंदा के कल्याण बिगहा गांव पहुंचे थे। इस दौरान नीतीश कुमार ने जनता की समस्याएं सुनी। तभी एक बच्चा आता है और बड़े ही आत्मविश्वास के साथ आंखों में आंखें डाल कर मुख्यमंत्री से कहने लगता है 'सर सुनिए ना... प्रणाम.. हमको पढ़ने के लिए हिम्मत दीजिए... गार्जियन नहीं पढ़ाते हैं।' बच्चे के इतना कहते ही नीतीश कुमार ने उसकी तरफ देखा और उसकी समस्याओं को सुनते हुए अधिकारी को निर्देश देते हैं।

इसे भी पढ़ें: बीपीएससी प्रश्नपत्र लीक मामले में चार और गिरफ्तार, साइबर आपराधिक गिरोह का भंडाफोड़

इतना ही नहीं, 11 साल के सोनू ने अपने पिता और बिहार की शिक्षा व्यवस्था की भी मुख्यमंत्री के सामने पोल खोल दी। सोनू ने बताया कि उसके पिता दही बेचते हैं और जो भी आमदनी होती है, उसका शराब पी जाते हैं। उसने कहा कि बिहार के सरकारी स्कूलों में शिक्षा की स्थिति अच्छी नहीं है। स्कूल में ठीक से पढ़ाई नहीं होती है। एक शिक्षक आते हैं दीपक कुमार, वह भी ठीक अंग्रेजी नहीं पढ़ पाते हैं। सोनू ने कहा कि वह अच्छे से स्कूल में पढ़ना चाहता है। वह पढ़ -लिख कर आईएएस-आईपीएस बनना चाहता है। उसकी फरियाद को सुनकर नीतीश कुमार ने उसे आश्वासन भी दिया। 

इसे भी पढ़ें: बिहार में बड़ा खेल हो गया! नितिन के कार्यक्रम से नीतीश आउट, राजद को मिला निमंत्रण

सोनू ने नीतीश से अंग्रेजी मीडिया में दाखिले की गुजारिश थी। सोनू फिलहाल छठी क्लास में पढ़ता है लेकिन वह पांचवीं तक के बच्चों को ट्यूशन भी पढ़ाता है। ट्यूशन से जो कमाई होती है वह भी उसके पिता ले लेते हैं और शराब-ताड़ी पीने में खर्च कर देते हैं। बच्चे की आत्मविश्वास और उसकी काबिलियत इस बात को दर्शाती है कि बच्चा आगे जाकर कोई बड़ा अफसर बन सकता है। बच्चे की हिम्मत देखकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ-साथ वहां मौजूद अधिकारी भी दंग रह गए। आपको बता दें कि बिहार में शराबबंदी है। बावजूद इसके नीतीश कुमार के सामने ही बच्चा यह कहता है कि उसके पिता शराब पीते हैं और सारे पैसों का शराब पी जाते हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़