प्रदेशवासियों के सहयोग से जल्द ही कोरोना मुक्त हो जाएगा झारखंड: हेमंत सोरेन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   12:58
प्रदेशवासियों के सहयोग से जल्द ही कोरोना मुक्त हो जाएगा झारखंड: हेमंत सोरेन

झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने कहा कि राज्य सरकार ने एक ओर जांच की संख्या में इजाफा किया है, वहीं दूसरी ओर सखी मंडल की बहनों, पंचायती राज संस्थाओं एवं अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं की मदद से सरकार गांव-गांव पहुंच कर लोगों की स्क्रीनिंग कर रही है।

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन ने बृहस्पतिवार को कहा कि राज्य में विगत दो दिन में मात्र दो-दो कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की पहचान हुई है जो बहुत राहत की बात है और इससे हमारा विश्वास दृढ़ हुआ है कि राज्य बहुत जल्द कोविड-19 के संक्रमण से मुक्त हो जायेगा। मुख्यमंत्री सोरेन ने ट्वीट कर कहा, ‘‘हम सभी के लिए यह राहत की बात है कि दो दिनों से सिर्फ 2-2 कोरोना संक्रमित मामले सामने आये हैं।’’ उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने एक ओर जांच की संख्या में इजाफा किया है, वहीं दूसरी ओर सखी मंडल की बहनों, पंचायती राज संस्थाओं एवं अन्य सामाजिक कार्यकर्ताओं की मदद से सरकार गांव-गांव पहुंच कर लोगों की स्क्रीनिंग कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 1074, संक्रमित लोगों की संख्या 33 हजार के पार 

मुख्यमंत्री ने कहा कि उक्त अभियान के तहत हम लॉकडाउन खुलने से पूर्व झारखंड के सभी गांवों तक पहुँचेंगे। उन्होंने कहा कि देश के हर हिस्से से प्रत्येक झारखंड वासी को वापस लाकर उन्हें पूरी तरह पृथक-वास में रखने के बाद ही सरकार अपनी जिम्मेदारी से मुक्त होगी। आगे चुनौतियां हैं, लेकिन झारखंड वासियों ने जिस तरह सरकार के प्रति अपना समर्थन दिखाया है, वह सराहनीय है। इसके लिए मैं आभार व्यक्त करता हूं। साथ ही भरोसा दिलाता हूं कि आपके समर्थन से झारखंड जल्द कोरोना वायरस मुक्त राज्य बनेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।