योगी का आदेश, अक्टूबर से पहले ज्यादा से ज्यादा खनन पट्टों की निविदा जारी की जाए

Yogi
कृषि विभाग ने टिड्डियों को रोकने के लिए बहुत अच्छी कार्य योजना लागू की है। प्रदेश सरकार केंद्र के संस्थानों के माध्यम से अभियान चलाते हुए जगह-जगह इन टिड्डी दलों को समाप्त करने पर कार्यवाही कर रही है।
लखनऊ।  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने खनन विभाग की आमदनी को और बढ़ाने के लिए आगामी एक अक्टूबर से पहले ज्यादा से ज्यादा खनन पट्टों के लिये निविदा जारी करने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश के गृह तथा सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने मंगलवार को यहां बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि अब खनन के काम बारिश के कारण 30 जून के बाद बंद हो जाएंगे, लिहाजा एक अक्टूबर को खनन कार्य दोबारा शुरू होने से पहले पट्टों के लिये तेजी से निविदा जारी की जाए। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि इस माह 300 करोड़ रुपए का खनन का लक्ष्य रहा था, जिसे सफलतापूर्वक प्राप्त भी किया गया है। खनन की आमदनी का लक्ष्य विभाग ने पूरा तो कर लिया है लेकिन आने वाले समय में खनन की व्यवस्था को बेहतर करने के लिए और अधिक पट्टे देकर राजस्व और आपूर्ति बढ़ाई जाए। अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में टिड्डी दल के नियंत्रण के लिए अब ड्रोन के जरिए भी रसायनों का छिड़काव किया जा रहा है। कृषि विभाग ने टिड्डियों को रोकने के लिए बहुत अच्छी कार्य योजना लागू की है। प्रदेश सरकार केंद्र के संस्थानों के माध्यम से अभियान चलाते हुए जगह-जगह इन टिड्डी दलों को समाप्त करने पर कार्यवाही कर रही है। 

इसे भी पढ़ें: भारत सरकार के दिशानिर्देशों के अनुरूप संचालित हो अनलॉक-2 व्यवस्था: योगी

उन्होंने बताया कि विभाग के माध्यम से प्रदेश में अब 785561 इकाइयां क्रियाशील हैं जिनमें 49.53 लाख कर्मचारी काम कर रहे हैं। पूरे प्रदेश में 57184 कॉमन सर्विस सेंटर क्रियाशील है जिनमें लगभग 114368 लोग काम कर रहे हैं। अवस्थी ने बताया कि राज्य के हर जिले में कोविड हेल्प डेस्क का जाल बिछाया जा रहा है। अगर किसी व्यक्ति को अपने संक्रमित होने की आशंका है तो वह कोविड-19 डेस्क पर जाकर मार्गदर्शन ले।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़