लोकसभा चुनावों को लेकर कोई आश्वस्त नहीं रहे, जनता किसी भी तरफ जा सकती है

By सुरेश हिन्दुस्थानी | Publish Date: Dec 17 2018 1:22PM
लोकसभा चुनावों को लेकर कोई आश्वस्त नहीं रहे, जनता किसी भी तरफ जा सकती है
Image Source: Google

पांच विधानसभा चुनाव के नतीजों का भी यही संदेश है कि अगले साल होने वाले आम चुनावों को लेकर कोई आश्वस्त नहीं रहे, पलड़ा अब किसी भी तरफ झुक सकता है। जनता क्या फैसला करने वाली है, इसका आभास इस बार भी उसने किसी को नहीं दिया।

मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में सत्ता परिवर्तित होकर अब कांग्रेस के हाथ में पहुंच गई है। चुनाव प्रचार के दौरान कांग्रेस के नेताओं ने अपने घोषणा पत्र में जिस प्रकार से वादों की झड़ी लगाई है, वह एक प्रकार से असंभव सा ही दिखाई देता है। यह बात सही है कि जनता सरकार से अपेक्षा करती ही है, लेकिन जनता की समस्त समस्याओं का समाधान करना किसी के लिए भी संभव नहीं है। क्योंकि समस्याएं प्रतिदिन उत्पन्न होती हैं। बढ़ती ही जाती हैं। कांग्रेस के चुनाव प्रचार के दौरान जिस प्रकार से लोक लुभावने सब्जबाग दिखाए हैं। वही भविष्य में कांग्रेस के लिए बहुत बड़ी चुनौती बनने वाले हैं। इसका कारण यह भी माना जा रहा है कि कांग्रेस के अंदरूनी हालात पूरी तरह से ठीक नहीं हैं। हो सकता है कि मुख्यमंत्री के लिए चली खींचतान आगे भी दिखाई दे। इसलिए कांग्रेस के समक्ष सबसे बड़ी विसंगति यह है कि वह अपना घर संभाले या जनता की अपेक्षाओं को पूरा करे।
 
कांग्रेस में मुख्यमंत्री बनाए जाने को लेकर किस प्रकार की खींचा तानी चली, यह हम सभी ने देखा है। राजनीतिक दृष्टि से अध्ययन करें तो यही दिखाई देता है कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस को पूर्ण बहुत नहीं मिला, उसे बैसाखी का सहारा लेना पड़ा। उसके बाद भी मुख्यमंत्री चयन में कांग्रेस नेतृत्व को खासी मेहनत करनी पड़ी। अंतत: ऊपर से कमलनाथ को मुख्यमंत्री बना दिया है।
 


 
इसी प्रकार राजस्थान में धमाचौकड़ी के बाद अशोक गहलौत बना दिए गए हैं। छत्तीसगढ़ में पूर्ण बहुमत होने के बाद भी कांग्रेस को मुख्यमंत्री का चयन करने में पसीने आ गये और आखिरकार भूपेश बघेल को मुख्यमंत्री बनाया गया। कांग्रेस में इस प्रकार के दृश्य उपस्थित होने से यह तो संकेत मिलता ही है कि कांग्रेस के अंदर ही कई नेताओं के अपने राजनीतिक दल दिखाई दे रहे हैं। जहां तक राजस्थान की बात है तो परिणाम आने के दो दिन बाद तक पूरे देश ने देखा था कि मुख्यमंत्री के रूप में कांग्रेस के युवा चेहरे सचिन पायलट के समर्थकों ने ऐसा प्रदर्शन किया, जैसा सत्ता धारी दल के विरोध में किया जाता है, लेकिन यह प्रदर्शन सत्ता बनाने के लिए किया जा रहा है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण बात यह भी है कि सचिन पायलट के समर्थन में प्रदर्शन और तोड़-फोड़ की गई। कुछ इसी प्रकार की स्थिति मध्यप्रदेश में भी दिखाई दी, जिसमें सिंधिया समर्थकों ने जमकर नारेबाजी की।
 
लोकतांत्रिक भारत देश में इस प्रकार का आंदोलन निश्चित रूप से लोकतंत्र के लिए गहरे अवरोध उत्पन्न करने का ही काम करेगा। प्रश्न यह भी है कि जिस कांग्रेस पार्टी में लोकतंत्र की दुहाई जाती रही है, वह आज पूरी तरह से अलोकतांत्रिक प्रमाणित हो रहा है। मुख्यमंत्री चयन के लिए सबसे अच्छा और संवैधानिक विकल्प यही है कि जो विधायक चुन कर आए हैं, वह अपने नेता का चयन करें। बहुमत वाली पार्टी के विधायक दल का नेता ही मुख्यमंत्री बनने का संवैधानिक अधिकार रखता है, लेकिन कांग्रेस में खेल ही दूसरे प्रकार का होता है। यहां ऊपर से नेता का नाम तय होकर विधायकों के सामने नाम घोषित किया जाता है। क्या यही लोकतंत्र है? यकीनन नहीं। राजस्थान में सड़कों पर जो लोकतंत्र दिखाई दिया क्या वह सही है? 


 
 
तीनों प्रदेशों में कांग्रेस को मुख्यमंत्री चयन करने में जिस स्थिति का सामना करना पड़ा, वह स्थिति कांग्रेस के भविष्य के लिए खतरे की घंटी ही कही जाएगी। मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री भले ही बन जाएं, लेकिन नए मुखिया की आगे की राह आसान नहीं है। उन्हें जनता की अपेक्षाओं और उम्मीदों पर खरा उतरना होगा। उन वादों को पूरा करना होगा, जो चुनाव के समय जनता से किए गए थे। सबसे पहले किसानों के कर्ज माफी का वादा पूरा करना होगा, जिसके लिए विपक्ष पहले दिन से हमलावर बना हुआ है। इसी प्रकार बिजली बिल की दर, बेरोजगारी पेंशन सहित ऐसे कई वादे हैं, जो कांग्रेस के लिए मुसीबतों का पहाड़ खड़ा करने के लिए काफी लग रहे हैं। ऐसे में कहा जा सकता है कि कांग्रेस ने अपने लिए स्वयं ही परेशानी का बीज बोया है। यह बीज अंकुरित भी होगा और बड़ा वृक्ष भी बनेगा। ऐसा लगता है कि कांग्रेस ने वादों के रूप में हाथी पाल लिया है। जिसे संभालने में ही कांग्रेस को कठोर परिश्रम करना होगा।


 

 
छत्तीसगढ़ को छोड़ दिया जाए तो दो राज्यों के चुनाव परिणामों में कांग्रेस को सत्ता तक पहुंचने के लिए संघर्ष करना पड़ा। कांग्रेस की यह विजय आसान नहीं कही जा सकती। यह चुनाव परिणाम कांग्रेस को स्पष्ट संदेश दे रहे हैं कि लोकसभा चुनाव की राह आसान नहीं है। जिस प्रकार से विपक्ष नरेन्द्र मोदी की सरकार को हटाने के सपने देख रहा है, वह इतना आसान नहीं है। कारण मध्यप्रदेश और राजस्थान में विपक्ष बहुत ही मजबूत है। जो नई सरकार को इस बात के लिए आगाह करता रहेगा कि जनता से किए गए वादों को जल्दी पूरा किया जाए।
 
 
पांच विधानसभा चुनाव के नतीजों का भी यही संदेश है कि अगले साल होने वाले आम चुनावों को लेकर कोई आश्वस्त नहीं रहे, पलड़ा अब किसी भी तरफ झुक सकता है। जनता क्या फैसला करने वाली है, इसका आभास इस बार भी उसने किसी को नहीं दिया। राजस्थान के बारे में न जाने कब से यह कहा जा रहा था कि वहां कांग्रेस सबको चारों खाने चित कर देगी, लेकिन जब रुझान आने शुरू हुए तो कांग्रेस एक-एक सीट के लिए संघर्ष करती दिखाई दी। चुनाव की कहानी में इतना ट्विस्ट डालने का श्रेय अगर किसी को है तो जनता को है, जिसने अंत तक अपने पत्ते नहीं खोले। चुनाव नतीजों ने यह बता दिया है कि ऐसे महत्वपूर्ण मौकों पर जनता का फैसला उन तमाम अनुष्ठानों से निष्प्रभावित रहता है, जो अक्सर चुनाव जीतने के लिए बड़े जोर-शोर से किए जाते हैं। उस पर न तो कोई जादू बहुत दिन तक चल पाता है, न कोई सम्मोहन। चुनावी भाषण, नारे और वादे भी एक हद से ज्यादा असर नहीं कर पाते।
 
-सुरेश हिन्दुस्थानी
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार एवं स्तंभकार हैं)

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

Related Story

Related Video