शेयर बाजार में भूचाल, लाल निशान पर बंद हुए सेंसेक्स और निफ्टी, इन कंपनियों के शेयर डूबे

sensex
ANI
रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में गिरावट और विदेशी संस्थागत निवेशकों की निकासी का भी बाजार पर असर पड़ा। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 306.01 अंक यानी 0.55 प्रतिशत के नुकसान के साथ 55,766.22 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 535.15 अंक तक गिर गया था।

मुंबई।स्थानीय शेयर बाजार में पिछले छह कारोबारी सत्रों से जारी तेजी का सिसिला सोमवार को थम गया और सेंसेक्स 306 अंक टूटकर 56,000 अंक के स्तर से नीचे बंद हुआ। निवेशकों द्वारा तेल एवं गैस, वाहन तथा दूरसंचार कंपनियों के शेयरों में मुनाफावसूली के कारण शेयर बाजार में गिरावट आई। रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर में गिरावट और विदेशी संस्थागत निवेशकों की निकासी का भी बाजार पर असर पड़ा। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 306.01 अंक यानी 0.55 प्रतिशत के नुकसान के साथ 55,766.22 अंक पर बंद हुआ। कारोबार के दौरान यह 535.15 अंक तक गिर गया था।

इसे भी पढ़ें: पोत परिवहन पर अगले छह महीने तक मिलेगी बंदरगाह, पोत शुल्क से छूट

इसी तरह नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 88.45 अंक यानी 0.53 प्रतिशत की गिरावट के साथ 16,631 अंक पर बंद हुआ। कोटक सिक्योरिटीज के इक्विटी शोध (खुदरा) प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा, ‘‘निवेशकों की वाहन, तेल एवं गैस और दूरसंचार शेयरों में मुनाफावसूली से घरेलू शेयर बाजार में पिछले छह कारोबारी सत्रों से जारी तेजी थम गई। अमेरिकी केंद्रीय बैंक की बुधवार को बैठक से पहले निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं।’’ सेंसेक्स की कंपनियों में महिंद्रा एंड महिंद्रा के शेयर में सबसे अधिक 3.80 प्रतिशत की गिरावट आई। रिलायंस इंडरस्ट्रीज का शेयर 3.31 प्रतिशत नीचे आया। मारुति सुजुकी इंडिया, कोटक महिंद्रा बैंक, अल्ट्राटेक सीमेंट, टेक महिंद्रा और नेस्ले के शेयर भी नुकसान में रहे। दूसरी तरफ टाटा स्टील, इंडसइंड बैंक, एशियन पेंट्स, एचसीएल टेक्नोलॉजीज, विप्रो और एनटीपीसी के शेयर लाभ के साथ बंद हुए। जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘वैश्विक स्तर पर आर्थिक मंदी की आशंका तथा प्रमुख कंपनियों के जून तिमाही के नतीजों से बाजार की दिशा तय हुई है।’’

इसे भी पढ़ें: टेक महिंद्रा का महिंद्रा यूनिवर्सिटी के साथ समझौता ज्ञापन

उन्होंने कहा, ‘‘मंदी की आशंका से वैश्विक बाजारों में अनिश्चितता का माहौल बन रहा है। विनिर्माण और सेवा क्षेत्रों में मंदी के कारण अमेरिका और यूरोप की व्यापार गतिविधियां अप्रत्याशित रूप से सिकुड़ गई हैं।’’ इसके अलावा व्यापक बाजार में बीएसई स्मॉलकैप में 0.13 प्रतिशत की गिरावट रही जबकि मिडकैप 0.03 प्रतिशत की मामूली बढ़त में रहा। एशिया के अन्य बाजारों में जापान का निक्की, हांगकांग का हैंगसेंग तथा चीन का शंघाई कंपोजिट नुकसान में रहे, जबकि दक्षिण कोरिया का कॉस्पी लाभ में रहा। यूरोप के प्रमुख बाजार दोपहर के कारोबार में मजबूत थे। अमेरिका के बाजार शुक्रवार को गिरावट लेकर बंद हुए थे। इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 1.24 प्रतिशत चढ़कर 104.52 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया। शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक शुक्रवार को शुद्ध बिकवाल रहे। उन्होंने 675.45 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़