भारत के बाद सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान चीन पहुंचे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 21, 2019   15:47
भारत के बाद सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान चीन पहुंचे

सऊदी अरब के ऊर्जा और उद्योग मंत्री खालिद बिन अब्दुलअजीज अल-फालिह ने चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ से कहा, ‘‘सऊदी अरब के पास काफी पूंजी है जिसे फायदेमंद जगह पर निवेश करने की जरुरत है।

बीजिंग। सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान गुरुवार को बीजिंग पहुंचे। उनका मकसद पत्रकार जमाल खशोगी की नृशंस हत्या पर पैदा हुए कूटनीतिक संकट के बाद हाई प्रोफाइल एशिया यात्रा पर साझेदारी मजबूत करना है। भारत और पाकिस्तान की यात्रा के बाद सलमान का चीन की राजधानी की दो दिवसीय यात्रा पर राष्ट्रपति शी चिनफिंग से मुलाकात का कार्यक्रम है। इस यात्रा का उद्देश्य यह दिखाना है कि सऊदी अरब के पत्रकार जमाल खशोगी की नृशंस हत्या के बाद रियाद के अब भी सहयोगी हैं। चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा कि जब दोनों देश अपने आर्थिक संबंधों को बेहतर बनाने पर ध्यान देंगे तो बीजिंग के महत्वाकांक्षी बेल्ट एंड रोड वैश्विक व्यापार ढांचा पहल उनके एजेंडा में होगी।

इसे भी पढ़ें- ISIS का दामन थामने वाली महिला की अमेरिका में दोबारा 'NO ENTRY'

सऊदी अरब के ऊर्जा और उद्योग मंत्री खालिद बिन अब्दुलअजीज अल-फालिह ने चीन की आधिकारिक समाचार एजेंसी शिन्हुआ से कहा, ‘‘सऊदी अरब के पास काफी पूंजी है जिसे फायदेमंद जगह पर निवेश करने की जरुरत है। बड़े बाजार और बेहतर हुए माहौल के साथ चीन निवेश के लिहाज से बड़ा स्थान है।’’ युवराज की यात्रा से पहले इस सप्ताह उसके चिर प्रतिद्वंद्वी ईरान के उच्चाधिकार प्रतिनिधिमंडल ने बीजिंग की यात्रा की।

इसे भी पढ़ें- नवाज शरीफ की सजा निलंबित करने पर कोर्ट का फैसला सुरक्षित

बुधवार को हुई मुलाकात में शी ने ईरानी संसद के अध्यक्ष अली लारीजानी से कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्थिति के बावजूद ईरान के साथ व्यापक कूटनीतिक साझेदारी विकसित करने का चीन का संकल्प अपरिवर्तित रहेगा। सऊदी अरब के युवराज की यात्रा इस्तांबुल में सऊदी अरब के दूतावास में पत्रकार जमाल खशोगी की हत्या के बाद बढ़े दबाव के पांच महीने बाद हो रही है। दूसरी तरफ चीन मुस्लिम अल्पसंख्यक समूहों के साथ अपने व्यवहार को लेकर अंतरराष्ट्रीय आलोचना का सामना कर रहा है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।