गालीबाज श्रीकांत त्यागी को पकड़ने के लिए लगी थी 12 टीमें, गैंगस्टर एक्ट के तहत हो रही जांच, 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया

Shrikant Tyagi
ANI Image
नोएडा पुलिस आयुक्त ने बताया कि इस मामले में 12 टीमों ने काम किया। वह (श्रीकांत त्यागी) बार-बार अपना ठिकाना बदल रहा था और उसकी वजह से वह कुछ समय के लिए खुद को बचाने में सफल रहा, लेकिन हमने उसे गिरफ्तार कर लिया... उसने हमें बताया कि सचिवालय पास उसे स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा दिया गया था।

लखनऊ। नोएडा में महिला के साथ अभद्रता करने वाले फरार आरोपी श्रीकांत त्यागी को उत्तर प्रदेश पुलिस ने मंगलवार को मेरठ से धर दबोचा। दरअसल, श्रीकांत त्यागी को पकड़ने के लिए पुलिस की 12 टीमें लगी हुई थी। ऐसे में श्रीकांत त्यागी बार-बार अपनी लोकेशन चेंज कर रहा था। जिसकी वजह से पुलिस की पकड़ से वो काफी दूर था लेकिन पुलिस ने अंतत: श्रीकांत त्यागी को मेरठ से धर दबोचा। इस संबंध में नोएडा के पुलिस आयुक्त का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने श्रीकांत त्यागी से जुड़ी हुई कई अहम जानकारियां दीं। 

इसे भी पढ़ें: श्रीकांत त्यागी पर होगी गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई, नोएडा ऑथिरिटी ने अवैध निर्माण पर लिया बड़ा एक्शन 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, नोएडा पुलिस आयुक्त ने बताया कि इस मामले में 12 टीमों ने काम किया। वह (श्रीकांत त्यागी) बार-बार अपना ठिकाना बदल रहा था और उसकी वजह से वह कुछ समय के लिए खुद को बचाने में सफल रहा, लेकिन हमने उसे गिरफ्तार कर लिया... उसने हमें बताया कि सचिवालय पास उसे स्वामी प्रसाद मौर्य द्वारा दिया गया था।

इसी बीच जानकारी सामने आई कि सूरजपुर कोर्ट ने श्रीकांत त्यागी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा। 

इससे पहले अधिकारियों ने बताया कि श्रीकांत त्यागी के एक वाहन पर 'विधायक' का स्टीकर लगा है, उनका कहना है कि यह स्टिकर उन्हें उनके पुराने राजनीतिक सहयोगी स्वामी प्रसाद मौर्य ने दिया था। हम इस जानकारी की पुष्टि कर रहे हैं। उनके ड्राइवर ने कार की नंबर प्लेट पर उत्तर प्रदेश सरकार का चिन्ह पेंट कर दिया था। गैंगस्टर एक्ट के तहत जांच की जा रही है।

इसे भी पढ़ें: फरार श्रीकांत त्यागी के खिलाफ एक और प्राथमिकी दर्ज, चार हिरासत में 

गिरफ्तार करने वाली टीम को इनाम

श्रीकांत त्यागी को गिरफ्तार करने वाली टीम को खूब शाबाशी मिल रही है। इसके साथ ही टीम के लिए इनाम की भी घोषणा की गई है। पुलिस आयुक्त ने बताया कि श्रीकांत त्यागी को गिरफ्तार करने वाली टीम को उनके तथा उत्तर प्रदेश शासन द्वारा इनाम प्रदान किया जा रहा है। इससे पूर्व नोएडा पुलिस ने त्यागी को फरार घोषित किया और उस पर 25 हजार रुपए के इनाम की घोषणा भी की थी।

अन्य न्यूज़