हमीरपुर में गाय बचाओ-किसान बचाओ यात्रा के तहत प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के 70 कार्यकर्ता हिरासत में लिए गए

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 29, 2020   16:08
हमीरपुर में गाय बचाओ-किसान बचाओ यात्रा के तहत प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के 70 कार्यकर्ता हिरासत में लिए गए

कांग्रेस की जिलाध्यक्ष नीलम निषाद ने दावा किया कि शांतिपूर्ण तरीके से गाय बचाओ-किसान बचाओ यात्रा निकाल रहे तीन सौ से ज्यादा कांग्रेसियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। यह यात्रा भरुआ सुमेरपुर कस्बे तक जानी थी। उन्होंने कहा कि सूबे की भाजपा सरकार को न गाय की चिंता है और न ही किसानों की फिक्र है।

हमीरपुर। हमीरपुर जिला मुख्यालय में मंगलवार को गाय बचाओ-किसान बचाओ यात्रा के तहत प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के करीब 70 नेताओं और कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। हमीरपुर के सदर पुलिस उपाधीक्षक (सीओ) अनुराग सिंह ने बताया कि मंगलवार को बिना अनुमति प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस की जिलाध्यक्ष और अन्य करीब 60-70 नेताओं और कार्यकर्ताओं को शहीद पार्क से हिरासत में लेकर महिला थाना परिसर में रखा गया है। उन्होंने बताया कि सभी कांग्रेसी बिना अनुमति प्रदर्शन कर रहे थे और कोविड-19 के दिशानिर्देशों का उल्लंघन कर रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: दिल्लीवासियों से बोले अरविंद केजरीवाल, राजधानी कोरोना के नए स्वरूप से निपटने के लिए तैयार है

इस बीच कांग्रेस की जिलाध्यक्ष नीलम निषाद ने दावा किया कि शांतिपूर्ण तरीके से गाय बचाओ-किसान बचाओ यात्रा निकाल रहे तीन सौ से ज्यादा कांग्रेसियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। यह यात्रा भरुआ सुमेरपुर कस्बे तक जानी थी। उन्होंने कहा कि सूबे की भाजपा सरकार को न गाय की चिंता है और न ही किसानों की फिक्र है। गौशालाओं में ठंड और भूख से गायें मर रही हैं तो कर्ज और मर्ज से किसान आत्महत्या कर रहे हैं। निषाद ने बताया कि कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में गाय बचाओ-किसान बचाओ यात्रा जिला मुख्यालय से भरुआ सुमेरपुर कस्बे तक निकाली जानी थी, लेकिन पुलिस उन्हें लखनऊ में सोमवार शाम से ही नजरबंद कर रखा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।