बग्गा की गिरफ़्तारी पर बोले अनुराग ठाकुर, यह पंजाब में सत्ताधारी दल की मानसिकता को दिखाता है

बग्गा की गिरफ़्तारी पर बोले अनुराग ठाकुर, यह पंजाब में सत्ताधारी दल की मानसिकता को दिखाता है
ANI

अनुराग ठाकुर ने बका की गिरफ्तारी को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि जो पंजाब पुलिस ने किया वो दुर्भाग्यपूर्ण है। किसी दूसरे राज्य में जाकर क़ानून की धज्जियां उड़ाना। क़ानून को बनाए रखने के लिए पुलिस को रखा जाता है न की किसी के बुजुर्ग पिता को प्रताड़ित करने के लिए।

पंजाबी पुलिस द्वारा भाजपा नेता तजिंदर पाल सिंह बग्गा की गिरफ्तारी को लेकर राजनीति लगातार जारी है। भाजपा और आम आदमी पार्टी एक दूसरे पर जबरदस्त तरीके से हमलावर है। इन सब के बीच केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर का भी बड़ा बयान सामने आ गया है। अनुराग ठाकुर ने बका की गिरफ्तारी को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा कि जो पंजाब पुलिस ने किया वो दुर्भाग्यपूर्ण है। किसी दूसरे राज्य में जाकर क़ानून की धज्जियां उड़ाना। क़ानून को बनाए रखने के लिए पुलिस को रखा जाता है न की किसी के बुजुर्ग पिता को प्रताड़ित करने के लिए। 

इसे भी पढ़ें: तेजिंदर बग्गा मामला: पंजाब एवं हरियाणा HC ने 10 मई तक के लिए सुनवाई स्थगित की

अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि किसी भी सिख युवा को पगड़ी भी न पहनने देना, आम नागरिक को चप्पल भी न पहनने देना और घसीटते हुए लेकर जाना दिखाता है कि पुलिस की मानसिकता क्या थी। ये पुलिस से ज्यादा पंजाब में सत्ताधारी दल की मानसिकता है जो उनकी अराजकता को दर्शाती है। दूसरी ओर आम आदमी पार्टी (आप) ने दावा किया कि तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को पंजाब पुलिस ने राज्य में सांप्रदायिक तनाव और हिंसा भड़काने की कोशिश करने के आरोप में दिल्ली से गिरफ्तार किया है। 

इसे भी पढ़ें: हाई वोल्टेज ड्रामा के बाद घर लौटे बग्गा, बोले- पंजाब पुलिस ने अवैध तरीके से किया था अपहरण

पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय में भाजपा नेता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा की गिरफ्तारी को लेकर दाखिल याचिका पर सुनवाई टल गई है। उच्च न्यायालय ने मामले में कार्यवाही मंगलवार, 10 मई तक के लिए स्थगित कर दी है। शनिवार को इस अहम सुनवाई में हरियाणा और दिल्ली पुलिस की ओर से एफिडेविट दाखिल करके पूरे मामले पर अपना जवाब देना था। सुनवाई के दौरान पंजाब एडवोकेट जनरल समेत दोनों पक्षों के लोग शामिल हुए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।