असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने बोडोलैंड क्षेत्रीय परिषद का संभाला कार्यभार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 28, 2020   09:08
असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने बोडोलैंड क्षेत्रीय परिषद का संभाला कार्यभार

कैबिनेट ने सोमवार को अपनी बैठक में राज्य चुनाव आयुक्त से जल्द से जल्द से चुनाव और इस तरीके से कराए जाने का अनुरोध किया कि भीड़ नहीं जमा हो पाए। कैबिनेट की बैठक के बाद असम मामलों के संसदीय मंत्री चंद्र मोहन पटवारी ने संवाददताओं से कहा था, ‘‘घर-घर जा कर प्रचार कराया जा सकता है।

गुवाहाटी। असम के राज्यपाल जगदीश मुखी ने बोडोलैंड क्षेत्रीय परिषद (बीटीसी) का सोमवार को कार्यभार संभाल लिया। बीटीसी का कार्यकाल समाप्त होने के बाद राज्यपाल ने यह कदम उठाया है। पारिषद की 40 विधानसभाओं के लिए चार अप्रैल को चुनाव होना था लेकिन कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए देशव्यापी बंद के कारण चुनाव नहीं कराए जा सके। राजभवन से जारी एक बयान के अनुसार,‘‘ बोडोलैंड क्षेत्रीय महा परिषद का कार्यकाल समाप्त होने के मद्देनजर राज्यपाल जगदीश मुखी ने भारत के संविधान की छठवीं अनुसूची की उपधारा 16 के तहत उन्हें प्राप्त शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए जनहित में सोमवार को बीटीसी का प्रशासन तत्काल प्रभाव से संभालने का संकल्प किया।’’ 

इसे भी पढ़ें: प्रधानमंत्री के साथ बैठक के बाद मुख्यमंत्रियों की राय, जानें किस प्रदेश के सीएम ने क्या कहा?

बीटीसी का अधिकार क्षेत्र असम के चार जिलों कोकराझार, बक्सा, चिरांग और उदलगुड़ी है और इसे सम्मिलित रूप से बोडोलैंड क्षेत्रीय प्रशासनिक जिले कहा जाता है। कैबिनेट ने सोमवार को अपनी बैठक में राज्य चुनाव आयुक्त से जल्द से जल्द से चुनाव और इस तरीके से कराए जाने का अनुरोध किया कि भीड़ नहीं जमा हो पाए। कैबिनेट की बैठक के बाद असम मामलों के संसदीय मंत्री चंद्र मोहन पटवारी ने संवाददताओं से कहा था, ‘‘घर-घर जा कर प्रचार कराया जा सकता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।