उन्नाव पीड़िता से मिलने जा रहे भीम आर्मी प्रमुख को पुलिस ने रोका, समर्थकों के साथ धरने पर बैठे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2021   08:14
उन्नाव पीड़िता से मिलने जा रहे भीम आर्मी प्रमुख को पुलिस ने रोका, समर्थकों के साथ धरने पर बैठे

कानपुर परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया कि भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर और उनके समर्थकों को गंगा बैराज पर रोका गया जब वे काकादेव के एक निजी अस्पताल में लड़की से मिलने के लिए जा रहे थे।

कानपुर। उन्नाव पीड़िता से मिलने जा रहे भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद को पुलिस ने पीड़िता से मिलने से रोका जिसके बाद वह अपने समर्थकों के साथ धरने पर बैठ गये। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि आजाद और उनके समर्थकों को गंगा बैराज पर रोका गया। सोमवार को वह अपने समर्थकों के साथ उन्नाव पीड़िता से मिलने सर्वोदय नगर स्थित एक निजी अस्पताल जा रहे थे। कानपुर परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया कि भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर और उनके समर्थकों को गंगा बैराज पर रोका गया जब वे काकादेव के एक निजी अस्पताल में लड़की से मिलने के लिए जा रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: भीम आर्मी वाले चंद्रशेखर का TIME100 ने माना लोहा, पर घर में अब भी पहचान से दूर 

उन्होंने बताया कि आजाद और उनके समर्थकों को लड़की से मिलने की इजाजत नहीं दी गई क्योंकि अस्पताल में भीड़भाड़ से संक्रमण हो सकता है और पीड़िता के लिए गंभीर खतरा हो सकता है। अस्पताल जाने की इजाजत न मिलने से नाराज आजाद और उनके समर्थक धरने पर बैठ गये, बाद में उन्होंने मजिस्ट्रेट को ज्ञापन दिया और वहां से चले गये। भीम आर्मी प्रमुख ने लड़की को नई दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती किये जाने तथा मामले की सीबीआई जांच की मांग की। 

इसे भी पढ़ें: उन्नाव मामला: भ्रामक सूचनाएं फैलाने के आरोप में 8 ट्विटर खातों और उनके यूजर्स के खिलाफ FIR दर्ज 

पत्रकारों से बातचीत करते हुये आजाद ने कहा कि जिस तरह से प्रशासन ने उन्हें रोकने के लिए पुलिस की तैनाती की, उसी तरह की व्यवस्था अपराधियों को रोकने के लिए की जानी चाहिए ताकि राज्य में अपराध दर में कमी आ सके। गौरतलब है कि उन्नाव के असोहा थाना इलाके के एक गांव में बुधवार शाम खेतों पर गयीं तीन दलित किशोरियां अचेत पाईं गईं थीं , इन्हें सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया था,जहां चिकित्‍सकों ने दो लड़कियों को मृत घोषित कर दिया, जबकि तीसरी की हालत गंभीर देखकर उसे उन्‍नाव के अस्‍पताल ले जाया गया और बाद में कानपुर रेफर कर दिया गया। तीसरी किशोरी की हालत अब स्थिर बतायी जाती है। इस मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।