भोपाल बना ग्रामीण स्वच्छता परिसर बनाने वाला देश का पहला जिला

भोपाल बना ग्रामीण स्वच्छता परिसर बनाने वाला देश का पहला जिला

इन जनसुविधा केन्द्रों का नाम सामुदायिक स्वच्छता परिसर होगा। आज से निर्मित होने वाले इन परिसरों की लागत 7 लाख 47 हजार रुपये होगी। भोपाल जिला पंचायत सीईओ विकास मिश्रा ने बताया कि इन्हें मॉडल के रूप में बनाया जा रहा है और आगे यह कार्य पंचायत और स्व सहायता समूहों को दिया जाएगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल देश का ऐसा पहला जिला बन गया है, जिसे गांवों में सुलभ इंटरनेशनल से हाथ मिलाकर ग्रामीण क्षेत्रों में जनसुविधा केन्द्रों के निर्माण और संचालन की पहल की है। इस ऐतिहासिक कार्य के लिए जिला पंचायत भोपाल और सुलभ इंटरनेशनल के बीच पिछले दिनों हुए एमओयू के बाद बुधवार को खजूरी सड़क और फंदा कला में इन जनसुविधा केन्द्रों के निर्माण की मध्य प्रदेश विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने आधारशिला रखी। इस अवसर पर शर्मा ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र से शुरू हुआ यह कार्य देश के लिए प्रेरणा बनेगा।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में बने आयुष्मान योजना के रिकॉर्ड दो करोड़ कार्ड

इन जनसुविधा केन्द्रों का नाम सामुदायिक स्वच्छता परिसर होगा। आज से निर्मित होने वाले इन परिसरों की लागत 7 लाख 47 हजार रुपये होगी। भोपाल जिला पंचायत सीईओ विकास मिश्रा ने बताया कि इन्हें मॉडल के रूप में बनाया जा रहा है और आगे यह कार्य पंचायत और स्व सहायता समूहों को दिया जाएगा। उन्होंने बताया कि कईं स्व सहायता समूहों ने ऐसे परिसरों के संचालन में अपनी रूचि भी प्रदर्शित की है। इन परिसरों के निर्माण में राशि की कमी इसलिए नहीं आएगी कि विधायक निधि सहित, स्वच्छ भारत मिशन, वित्त आयोग सहित अन्य इसी तरह की राशि के समन्वय से ये काम किए जा सकेंगे। मिश्रा ने बताया कि भारत में मध्य प्रदेश और मध्य प्रदेश में भोपाल जिला इस तरह की पहल करने वाला पहला है। उन्होंने कहा कि स्वच्छता के क्षेत्र में भी ग्रामीणों में जागरूकता आएगी।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के कृषि मंत्री बोले, किसानों के नाम पर दिल्ली में देश विरोधी ताकतों ने किया तांडव

भोपाल की खजूरी सड़क और फंदा कलां में आज से निर्मित होने वाले स्वच्छता परिसरों के लिए हुजूर विधानसभा क्षेत्र विकास निधि से 4 लाख 47 हजार, स्वच्छ भारत मिशन से 2 लाख 10 हजार और  15 वां वित्त आयोग से 90 हजार  के अंशदान से इसे बनाया जाएगा। क्षेत्रीय विधायक और प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र में हुई शुरुआत पूरे देश के लिए प्रेरणा का काम करेगी। उन्होंने ग्रामीणों से स्वच्छ भारत अभियान से जुड़ कर गांवों को स्वच्छ बनाने की अपील भी की। इस अवसर पर जिला प्रशासन के अधिकारी, सरपंच और सुलभ इंटरनेशनल के प्रतिनिधि उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।