वाराणसी में बीएचयू के ट्रामा सेंटर में शुरू हुआ कोविड वार्ड, आरक्षित किए गए 90 बेड

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 21, 2021   18:42
वाराणसी में बीएचयू के ट्रामा सेंटर में शुरू हुआ कोविड वार्ड, आरक्षित किए गए 90 बेड

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्पताल में करीब 400 बेड का शताब्दी सुपर स्पेसियलिटी कांप्लेक्स बनाया गया है। पिछले साल मार्च में कोरोना का कहर बढ़ने पर आनन-फानन में शताब्दी सुपर स्पेसियलिटी कांप्लेक्स को 350 बेडों पर ही कोरोना वार्ड बनाया,जिसमे करीब 50 बेड को कोरोना के मरीजों के लिए आइसीयू बेड बनाया गया था।

बीएचयू के ट्रामा सेंटर में भी मंगलवार को कोविड वार्ड शुरू हो गया। प्रशासन ने पिछले सप्ताह इसे लेकर दौरा  किया था, तभी तय किया गया कि ट्रामा सेंटर में 90 बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित किया जाए।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति कोविंद ने कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में लोक सेवकों के योगदान की सराहना की

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच चिकित्सा विज्ञान संस्थान, बीएचयू के ट्रामा सेंटर में भी मंगलवार को कोविड वार्ड शुरू हो गया। प्रशासन ने पिछले सप्ताह इसे लेकर दौरा भी किया था हालांकि फिलहाल 59 बेड पर ही कोरोना का उपचार शुरू करने की तैयारी की गई। राहत की बात है इसमें आइसीयू एवं एचडीयू के बेड भी शामिल हैं। इसके बाद धीरे-धीरे बेड बढ़ाए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: नासिक हादसा: पीड़ितों के परिजनों को 5-5 लाख मुआवजे का ऐलान, CM ठाकरे ने दिए जांच के आदेश

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्पताल में करीब 400 बेड का शताब्दी सुपर स्पेसियलिटी कांप्लेक्स बनाया गया है।  पिछले साल मार्च में कोरोना का कहर बढ़ने पर आनन-फानन में शताब्दी सुपर स्पेसियलिटी कांप्लेक्स को 350 बेडों पर ही कोरोना वार्ड बनाया, जिसमे करीब 50 बेड को कोरोना के मरीजों के लिए आइसीयू बेड बनाया गया था। जिससे सैकड़ों मरीजों की जान बची, यह वार्ड कोरोना के लेवर थ्री के लिए था, जो पूरे पूर्वांचल के लिए वरदान साबित हुआ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।