भाजपा ने चुनाव आयोग से की उमंग सिंघार और सरकारी कर्मचारियों पर कार्यवाही की मांग

BJP demands action against Umang Singhar
दिनेश शुक्ल । Oct 31, 2020 9:12PM
भाजपा प्रतिनिधि मंडल ने पूर्व में की गई शिकायतों पर भी निर्वाचन आयोग का ध्यान आकर्षित किया और बताया कि भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने पूर्व में दिग्विजय सिंह, सज्जन सिंह वर्मा, फूल सिंह बरैया, हेमंत कटारे, जीतू पटवारी, पी.सी. शर्मा, पूर्व मंत्री अरूण यादव, शोभा ओझा एवं आचार्य प्रमोद कृष्णन, स्टार प्रचारक कॉग्रेस व अन्य के विरूद्ध शिकायतें की गई थीं। लेकिन इन शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

भोपाल। भारतीय जनता पार्टी ने पूर्व मंत्री उमंग सिंघार तथा एक राजनीतिक दल का प्रचार कर रहे सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई किए जाने की मांग निर्वाचन आयोग से की है। पार्टी का प्रतिनिधिमंडल बुधवार को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से मिला और लिखित शिकायतें सौंपी। पार्टी के प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश महामंत्री भगवानदास सबनानी, विधि प्रकोष्ठ के प्रदेश संयोजक संतोष शर्मा, अधिवक्ता प्रमोद सक्सेना, रमाकांत शर्मा, दीपक खरे एवं जोसफ थॉमस शामिल थे।

भाजपा का आरोप है कि उमंग सिंघार भ्रमित करने वाला वीडियो प्रचारित कर रहे। पार्टी द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि कॉग्रेस विधायक उमंग सिंघार द्वारा वरिष्ठ नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया के विरूद्ध अनर्गल प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। उमंग सिंगार द्वारा एक विडियो सोशल मिडिया में रिलीज कर प्रदेश के 28 विधानसभा क्षेत्रों के में मतदाताओं को भ्रमित कर लाभ पाने का प्रयास किया जा रहा है जो कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। अतः पूर्व मंत्री उमंग सिंघार पर त्वरित कार्यवाही की जाए।

इसे भी पढ़ें: एक भ्रष्टाचारी सरकार को हमने धूल चटाई हैः ज्योतिरादित्य सिंधिया

वही भाजपा ने महाराष्ट्र के विधायक राजकुमार पटेल के खिलाफ चुनाव आयोग में शिकायत की है कि वह बिना अनुमति वाले वाहन से प्रचार कर रहे। शिकायत में कहा गया है कि महाराष्ट्र के विधायक राजकुमार दयाराम पटेल द्वारा गैर अनुमति प्राप्त वाहन से नेपानगर विधानसभा क्षेत्र के खकनार तहसील में शेखापुर क्षेत्र में सफेद टोयटा कार से कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में प्रचार प्रसार किया जा रहा है। उक्त वाहन से प्रचार की अनुमति प्राप्त नहीं की गई है जो कि आदर्श चुनाव आचार संहिता का सीधा उलंघन है। प्रतिनिधिमंडल ने उचित जांच कर उक्त वाहन से प्रचार राकने एवं विधि सम्मत कार्यवाही करने का आग्रह किया।

 

इसे भी पढ़ें: बस भ्रष्टाचार और कमलनाथ चलते रहे, बाकी सब बंद हो गया थाः शिवराज सिंह चौहान

साथ ही भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस आरक्षक को अन्यत्र पदस्थ करने की मांग की। भाजपा ने शिकायत में लिखा है कि पोहरी विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस पार्टी प्रत्याशी हरिवल्लभ शुक्ला के रिश्तेदार आरक्षक 768 पुलिस लाइन साईबर सेल शिवपुरी में पदस्थ है। इस संभावना से बिल्कुल भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि इनके द्वारा भाजपा नेताओं के विरुद्ध साइबर सेल में अपने अधिकारों का दुरुपयोग किया जा सकता है या कॉल डिटेल,  कॉल रिकॉर्ड की जा सकती है। अथवा भाजपा के विरुद्ध प्रोपगंडा चलाया जा सकता है। प्रतिनिधिमंडल ने आलोक व्यास, आरक्षक 768 को साईबर सेल से वापस पुलिस लाईन भेजकर पोहरी विधानसभा एवं पुलिस लाइन शिवपुरी से अन्यत्र पदस्थ करने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें: उमंग सिंघार का आरोप कांग्रेस की हार की हताशा से उपजा- बीजेपी

भाजपा ने शिकायत में कहा कि सरकारी कर्मचारी कांग्रेस के पक्ष में काम कर रहे। शिकायत में कहा गया है कि भांडेर के ग्राम मलौआ के बी.एल.ओ. राजू जाटव, ग्राम पंचायत सचिव चांदनी भूपेन्द्र गुर्जर, थाना प्रभारी भगवपुरा सुश्री सविता शर्मा, सहकारी बैंक मैनेजर, पण्डोखर हरिशंकर यादव, ग्राम पंचायत सचिव बेरछ शिशुपाल सिंह यादव,सहायक शिक्षक ग्राम बीसलपुरा, भांडेर सीताराम पाल, थाना भांडेर नगर निरीक्षक भांडेर उत्तम मंडेलिया शासकीय कर्मचारियों द्वारा कॉंग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में कार्य किया जा रहा है। ये कर्मचारी/अधिकारी कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में खुल्लम-खुल्ला पद का दुरूपयोग करते हुए कार्य कर रहे हैं  तथा मतदाताओं पर कांग्रेस के पक्ष में वोट डालने का दबाव डाल रहे हैं। उक्त सभी कर्मचारियो को शीघ्र ही उनके पदों से हटाकर अन्यत्र स्थान पर स्थानांतरित किये जाए।

इसे भी पढ़ें: जीतू पटवारी ने कहा हार सामने देख, बीजेपी ने की प्लान बी की तैयारी फिर लगी विधायकों को खऱीदने की मंडी

वही भाजपा प्रतिनिधिमंडल ने चुनाव आयोग में शासकीय शिक्षक के खिलाफ कार्यवाही की मांग की है। करेरा में अशोक वेदौरिया सहायक शिक्षक सी.एम.सी. एवं मुरारी लाल भेन्या प्रधानाध्यापक आई.टी.बी.पी. प्राथमिक विद्यालय द्वारा कॉग्रेस पार्टी का प्रचार किया जा रहा है।  उक्त दोनों शिक्षक अपने पद का दुरूपयोग कर रहे हैं जो कि आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन है। इनका तत्काल प्रभाव से उनका स्थानान्तरण अन्यत्र किये जाने की मांग की गई। इसी के साथ ग्राम एण्डोरी के पंचायत सचिव के खिलाफ कार्यवाही की मांग की गई है। भारतीय जनता पार्टी द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि गोहद विधानसभा में कांग्रेस की ओर से विधानसभा प्रभारी डॉ. गोविंद सिंह लहार विधायक हैं जिनकी ससुराल ग्राम खनेता में है। उनका साला हरेन्द्र सिंह ग्राम पंचायत एण्डोरी में पदेन सचिव है और हरेन्द्र तोमर अपने पद का दुरूपयोग कर रहे हैं व कांग्रेस के पक्ष मे कार्य कर रहे है। ऐसी स्थिति में तत्काल प्रभाव से उनका ट्रान्सफर किये जाने की मांग की गई है।

इसे भी पढ़ें: पूर्व मंत्री उमंग सिंघार ने सिंधिया पर 50 करोड़ का ऑफर देने के लगाए आरोप

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा मुख्य चुनाव आयुक्त के आदेश के उल्लंघन को लेकर भाजपा ने शिकायत में कहा गया है कि मुख्य चुनाव आयुक्त नई दिल्ली के द्वारा आदेश क्र. 100/एन-2-एल.ए./2020 (उप) दिनांक 30.10.2020 के माध्यम से कांग्रेस पार्टी के नेता कमलनाथ जी का नाम मप्र. उपचुनाव मंव कांग्रेस पार्टी के स्टार प्रचारक की सूची से अमान्य कर दिया गया है। इसके बावजूद कमलनाथ अन्य स्टार प्रचारक के साथ सभा को संम्बोधित करने का प्रयास कर रहे हैं। कमलनाथ द्वारा आयोग के आदेश का खुला उल्लंघन किया जा रहा है। यह आदेश कमलनाथ द्वारा बारंबार अमर्यादित भाषा के प्रयोग एवं आचार संहिता का उल्लंघन के आधार पर पारित किया गया है। ऐसी स्थिति में कमलनाथ की किसी भी सभा मे उपस्थिति का सम्पूर्ण खर्च वहां के प्रत्याशी के खाते मंस जोड़ा जाये एवं तत्काल प्रभाव से कमलनाथ को आगामी प्रचार-प्रसार करने से रोका जाए।

भाजपा प्रतिनिधि मंडल ने पूर्व में की गई शिकायतों पर भी निर्वाचन आयोग का ध्यान आकर्षित किया और बताया कि भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधिमंडल ने पूर्व में दिग्विजय सिंह, सज्जन सिंह वर्मा, फूल सिंह बरैया, हेमंत कटारे, जीतू पटवारी, पी.सी. शर्मा, पूर्व मंत्री अरूण यादव, शोभा ओझा एवं आचार्य प्रमोद कृष्णन, स्टार प्रचारक कॉग्रेस व अन्य के विरूद्ध शिकायतें की गई थीं। लेकिन इन शिकायतों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। अतः त्वरित कार्रवाई की जाए।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़