भाजपा सरकार राज्य में बिगड़ते हालात पर ध्यान देने के बजाय समाजवादियों को लेकर ज्यादा चिंतित: अखिलेश

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 9 2019 6:33PM
भाजपा सरकार राज्य में बिगड़ते हालात पर ध्यान देने के बजाय समाजवादियों को लेकर ज्यादा चिंतित: अखिलेश
Image Source: Google

अखिलेश का यह बयान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उस टिप्पणी पर पलटवार माना जा रहा है, जिसमें उन्होंने कहा था कि आज बाजार में समाजवाद के कई ब्रांड मौजूद हैं। इसके विकृत, परिवारवादी और जातिवादी रूप को उत्तर भारत ने दो दशकों तक देखा और झेला है। समझा जाता है कि मुख्यमंत्री ने यह टिप्पणी स्पष्ट तौर पर समाजवादी पार्टी और समाजवादी विचारधारा की राजनीति करने वाले लोगों को निशाना बनाकर की थी।

लखनऊ। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा पर सपा के प्रति नफरत की भावना से काम करने का आरोप लगाते हुए मंगलवार को कहा कि सिर्फ उनकी ही पार्टी समाजवाद को आगे बढ़ा रही है। उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने यहां कहा, ‘‘राज्य की भाजपा सरकार अपने राज में बिगड़ते हालात पर ध्यान देने के बजाय समाजवाद और समाजवादियों को लेकर ज्यादा चिंतित है। सिर्फ सपा ही समाजवादी विचारधारा को आगे बढ़ा रही है। विशेषाधिकार प्राप्त लोग ही इसमें जातिवाद ढूढ़ते हैं। यह पूरी तरह से योजनाबद्ध ढंग से प्रचारित झूठ है।’’उन्होंने कहा, ‘‘भाजपा सपा के विरूद्ध नफरत भरी साजिश इसलिए भी करती है क्योंकि वह (सपा) सामाजिक न्याय से महापरिवर्तन का आह्वान कर उस दिशा में प्रयासशील रहती है।’’

इसे भी पढ़ें: यमुना एक्सप्रेस वे दुर्घटना पर राहुल गांधी ने दु:ख जताया

अखिलेश का यह बयान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उस टिप्पणी पर पलटवार माना जा रहा है, जिसमें उन्होंने कहा था कि आज बाजार में समाजवाद के कई ब्रांड मौजूद हैं। इसके विकृत, परिवारवादी और जातिवादी रूप को उत्तर भारत ने दो दशकों तक देखा और झेला है। समझा जाता है कि मुख्यमंत्री ने यह टिप्पणी स्पष्ट तौर पर समाजवादी पार्टी और समाजवादी विचारधारा की राजनीति करने वाले लोगों को निशाना बनाकर की थी। योगी ने कहा, ‘‘खुद को समाजवाद का पहरेदार बताने वालों ने इसे अराजकता और उद्दंडता का पर्याय बनाकर रख दिया है। साथ ही राम मनोहर लोहिया और पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के विचारों को धूल में मिला दिया है।’’ इस पर अखिलेश ने कहा, ‘‘भाजपा के मातृ संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ की विचारधारा असहिष्णुता का पाठ पढ़ाती है। भाजपा का गांधी जी, सरदार पटेल, आचार्य नरेन्द्र देव, लोकनायक जयप्रकाश नारायण और लोहिया की विचारधारा से कभी कोई सम्बंध नहीं रहा है। संघ कभी स्वतंत्रता आंदोलन का हिस्सा नहीं बना था।’’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video