रोजगार के मुद्दे पर नीतीश सरकार को सदन में घेरने की तैयारी में भाजपा, तेजस्वी बोले- जो होगा देखा जाएगा

sanjay jaiswal and tejashwi
ANI
अंकित सिंह । Nov 23, 2022 2:31PM
भाजपा के बिहार अध्यक्ष संजय जायसवाल ने साफ तौर पर कहा है कि अगर 10 लाख रोजगार देने के वादे पर सरकार कुछ नहीं करती है तो हम सदन नहीं चलने देंगे। इसी को लेकर तेजस्वी यादव का भी बयान आया है। उन्होंने कहा है कि जो कुछ भी होगा सदन में देखा जाएगा जवाब दिया जाएगा।

बिहार में महागठबंधन की सरकार और भाजपा के बीच जबरदस्त तरीके से वार-पलटवार का दौर चल रहा है। बिहार में हाल के दिनों में नीतीश कुमार और उनकी सरकार की ओर से नियुक्ति पत्र बांटे जा रहे हैं। नीतीश सरकार का दावा है कि वह बिहार में युवाओं को लगातार रोजगार देने के लिए प्रतिबंध है। दूसरी ओर भाजपा जबरदस्त तरीके से नीतीश सरकार पर रोजगार को लेकर हमलावर है। भाजपा का दावा है कि पुराने लोगों को ही बुला कर नौकरी पत्र दिए जा रहे हैं। इसी कड़ी में भाजपा के बिहार अध्यक्ष संजय जायसवाल ने साफ तौर पर कहा है कि अगर 10 लाख रोजगार देने के वादे पर सरकार कुछ नहीं करती है तो हम सदन नहीं चलने देंगे। इसी को लेकर तेजस्वी यादव का भी बयान आया है। उन्होंने कहा है कि जो कुछ भी होगा सदन में देखा जाएगा जवाब दिया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: बिहार दौरे पर जाएंगे शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे, तेजस्वी यादव से करेंगे मुलाकात

अपने बयान में संजय जायसवाल ने कहा कि जिन्होंने 10 लाख नौकरी देने का वादा किया था, उनके लिए एक अवसर है। हमने सबकुछ तैयार कर दिया था। उन्होंने आगे कहा कि भाजपा 13 दिसंबर से बिहार विधानसभा सत्र से पहले तक समय देती है, इस मुद्दे का सही निदान नहीं होने पर भाजपा सदन नहीं चलने देगी। CTET-BTET की बहालियों को यथाशीघ्र पूरा किया जाए। भाजपा नेता ने आगे कहा कि हमारे निर्णय के बाद तय किया गया था कि 1.15 लाख शिक्षकों की नियुक्ति करनी है। इसका आश्वासन सदन में तत्कालीन बिहार के शिक्षा मंत्री ने दिया था। लेकिन सबसे दिलचस्प बात यह है कि प्रश्नकर्ता उस समय वह व्यक्ति थें, जो आज बिहार के शिक्षा मंत्री हैं।

इसे भी पढ़ें: बिहार में शोभायात्रा बनी अंतिम यात्रा, CM नीतीश ने घायलों के समुचित इलाज का दिया निर्देश, 5-5 लाख मुआवजे का किया ऐलान

दूसरी ओर जायसवाल के बयान पर जदयू की भी प्रतिक्रिया आई है। जदयू संसदीय बोर्ड के प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा ने अपने बयान में कहा कि जब विपक्ष द्वारा संसद की कार्यवाही बाधित की जाती है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शिकायत करते हैं। लेकिन अब, उनके लोग बिहार में ऐसा करने की कोशिश कर रहे हैं। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा कि नीतीश कुमार नीत सरकार रोजगार सृजन की दिशा में काम कर रही है लेकिन इन चीजों में कई कदम शामिल हैं और इसमें समय लगता है। कुशवाहा ने कहा कि यह बहुत हास्यास्पद है कि उस पार्टी द्वारा 10 लाख नौकरियों का वादा पूरा नहीं करने का आरोप लगाया जा रहा है जो हर साल दो करोड़ नौकरियों का वादा करके सत्ता में आई थी और लगभग एक दशक बाद भी पूरा नहीं कर पाई है।

अन्य न्यूज़