BMC ने भेजा राणा दंपत्ति को नोटिस, घर में अवैध निर्माण पाया, 7 दिनों के भीतर देना होगा जवाब

BMC ने भेजा राणा दंपत्ति को नोटिस, घर में अवैध निर्माण पाया,  7 दिनों के भीतर देना होगा जवाब
ANI

बीएमसी ने अमरावती के सांसद नवनीत राणा और विधायक रवि राणा को नगर निगम अधिनियम की धारा 351(1ए) के तहत कारण बताओ नोटिस जारी किया है। बीएमसी ने अमरावती के सांसद नवनीत राणा और विधायक रवि राणा से 7 दिनों के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा।

उद्धव ठाकरे के निजी आवास मातोश्री के बाहर हनुमान चालीसा का पाठ करने की चुनौती देने वाली अमरावती सांसद नवनीत राणा और उनके पति व विधायक रवि राणा की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रही है। जमानत पर बाहर होने के बाद मीडियो को दिए बयान को लेकर मुंबई सेशन कोर्ट की तरफ से राणा को कारण बताओ नोटिस जारी कर उनसे पूछा है कि उनकी जमानत क्यों नहीं रद्द की जानी चाहिए। वहीं अब बीएमसी की तरफ से भी राणा दंपत्ति के आवास को लेकर फुल एक्शन की तैयारी है। 

इसे भी पढ़ें: ओबीसी के राजनीतिक आरक्षण का असली हत्यारा बीजेपी और फडणवीस सरकार है: नाना पटोले

बीएमसी ने अमरावती के सांसद नवनीत राणा और विधायक रवि राणा को नगर निगम अधिनियम की धारा 351(1ए) के तहत कारण बताओ नोटिस जारी किया है। बीएमसी ने अमरावती के सांसद नवनीत राणा और विधायक रवि राणा से 7 दिनों के भीतर जवाब दाखिल करने को कहा। यदि वे पर्याप्त कारण का वर्णन करने में विफल रहते हैं, तो बीएमसी उनकी अनुमति के बिना उल्लिखित निर्माण के खिलाफ पहल करेगी और उक्त अधिनियम की धारा 475 ए के तहत मुकदमा भी चलाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: केंद्र को लाउडस्पीकर के उपयोग पर नीति बनानी चाहिए, महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटिल का बयान

गौरतलब है कि मुंबई महानगर पालिका (बीएमसी) की टीम राणा दंपत्ति के मुंबई के खार इलाके के निवास में जाकर निरीक्षण किया। प्राप्त जानकारी के अनुसार बीएमसी ने ये पाया है कि राणा दंपत्ति के घर में अवैध निर्माण किया गया है। यानी अधिकृत नक्शे से हटकर निर्माण किया गया है। इसलिए बीएमसी की तरफ से राणा दंपत्ति को घर के अंदर हुए अवैध निर्माण को लेकर नोटिस जारी किया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।