भोपाल में ईरानी डेरे पर चला प्रशासन का बुलडोजर, भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने आए

भोपाल में ईरानी डेरे पर चला प्रशासन का बुलडोजर, भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने आए

गौरतलब है कि शनिवार सुबह से जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम पुलिस बल के साथ ईरानी डेरे के करीब 12 हजार वर्गफीट पर अवैध कब्जे और निर्माण को जेसीबी मशीन से हटाया जा रहा है। हालांकि यहां पर दुकानदारों ने खुद ही अपना सामान हटा दिया।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में नगर निगम, प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम ने शनिवार सुबह भोपाल रेलवे स्टेशन के समीप स्थित ईरानी डेरे का अतिक्रमण हटाया। जिसके बाद करीब 12 हजार वर्गफीट पर किए गए अवैध कब्जे और निर्माण को जेसीबी मशीन से हटाया गया। दुकानदार खुद सुबह-सुबह अपनी दुकानों पर पहुंचे और दुकान में रखे सभी सामानों को अपने साथ ले गए। भोपाल रेलवे स्टेशन के पास स्थित ईरानी डेरे से अतिक्रमण हटाने की बात कई बार उठी, लेकिन हर बार किसी न किसी वजह से कार्रवाई रुकती रही। सालों बाद प्रशासन ने यहां पर कार्रवाई की हिम्मत जुटाई है। कुछ दिन पहले करोंद क्षेत्र अमन कॉलोनी स्थित ईरानी डेरा पर पुलिस पार्टी पर हमला हो गया था। धोखाधड़ी के एक मामले में सागर पुलिस तीन आरोपियों को गिरफ्तार करने पहुंची थी। उस दौरान पुलिस पर पथराव किया गया था और पुलिस एक ही आरोपी को गिरफ्तार कर पाई थी। जिसके बाद प्रशासन अवैध कब्जा हटाने के लिए मन बना लिया था। 

इसे भी पढ़ें: अपने सगे भाई-भाभी सहित दो बच्चों को जलाया जिंदा , खुद फांसी पर झूला

स्थानीय लोगों के मुताबिक जिस जमीन से कब्जा हटाया जा रहा है, वह पूरी जमीन लालजी भाई ठाकुर के नाम पर बताई जाती है जिनकी मौत हो चुकी है। जिसके बाद यहां दुकान संचालित करने वाले डेरे के लोगों और लालजी भाई के उत्तराधिकारियों के बीच कोर्ट में केस विचाराधीन है। लोगों का आरोप है कि शासन यहां कैसे बीच में आ गया जबकि यह जमीन प्राइवेट है। जानकारी के अनुसार 80 फीट चौड़ी हमीदिया समानांतर सड़क के किनारे करीब 12 हजार वर्गफीट सरकारी जमीन पर हुसैनी जनकल्याण समिति का अवैध कब्जा है।

इसे भी पढ़ें: इंदौर में अवैध निर्माणों पर चला जिला प्रशासन का बुलडोजर, तीन गुंडों के मकान जमींदोज

वही  दूसरी ओर ईरानी डेरा से अवैध कब्जा हटाने की नगरनिगम, पुलिस और प्रशासन की संयुक्त कार्रवाई के बीच अतिक्रमण हटाने को लेकर प्रदेश में सत्तारूढ़ भाजपा और विपक्षी दल कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं। शिवराज सरकार के कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने जहां पूर्व मंत्री पी.सी.शर्मा को झुग्गी माफिया बताया है, वहीं पूर्व मंत्री पी.सी.शर्मा ने ईरानी डेरे पर की गई कार्रवाई को बदले की कार्रवाई बताया है। जिसके बाद अवैध कब्जा करके सालों से जमे ईरानी डेरे पर शनिवार को की गई प्रशासन की कार्रवाई के बाद राजनीतिक बयानबाजी भी तेज हो गई है। शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि मध्य प्रदेश में कानून व्यवस्था को लेकर समझौता नहीं किया जाएगा। सरकारी जमीन पर कब्जा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। मंत्री सारंग ने कहा कि पी.सी. शर्मा इस तरह के गुंडों बदमाशों को संरक्षण दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये कार्रवाई कांग्रेस सरकार में पले भ्रष्टाचार के खिलाफ हो रही है और कांग्रेस नेता पी.सी. शर्मा झुग्गी माफिया हैं।

 

इसे भी पढ़ें: चरित्र शंका में पत्नी की चाकू मारकर हत्या, खुद भी किया आत्महत्या का प्रयास

वहीं, मंत्री सारंग के इस बयान पर पलटवार करते हुए पूर्व मंत्री पी.सी. शर्मा ने कहा कि ईरानी डेरे पर हुई कार्रवाई बदले की भावना से की गई है। पूर्व मंत्री ने इसे गलत ठहराया। उन्होंने कहा कि सरकार लोगों का रोजगार खत्म कर उन्हें बेरोजगार बनाने में लगी हुई है। लोगों का रोजगार चला जाएगा तो वह क्रिमिनल एक्टिविटी की तरफ जाएंगे। सरकार गरीबों को रोजगार तो दे नहीं पा रही है, जो रोज कमाकर परिवार पाल रहे हैं,  उनका परिश्रम भी इस सरकार से नहीं देखा जा रहा है। शर्मा ने कहा कि 15 साल तक प्रदेश में बीजेपी की सरकार थी तो इन्हें संरक्षण कौन देता रहा है, ये मुझे बताने की जरूरत नहीं है।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के रतलाम में बाप-बेटी और माँ के शव मिले, हत्या की आशंका

गौरतलब है कि शनिवार सुबह से जिला प्रशासन और नगर निगम की टीम पुलिस बल के साथ ईरानी डेरे के करीब 12 हजार वर्गफीट पर अवैध कब्जे और निर्माण को जेसीबी मशीन से हटाया जा रहा है। हालांकि यहां पर दुकानदारों ने खुद ही अपना सामान हटा दिया। डेरे के अंदर से विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है और मौके पर लोग नारेबाजी करते रहे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।