गुजरात में फिल्मों की तरह अवैध शराब पर चलाया गया बुलडोजर, 2 करोड़ की शराब बर्बाद

गुजरात में फिल्मों की तरह अवैध शराब पर चलाया गया बुलडोजर, 2 करोड़ की शराब बर्बाद

ये तो हम सभी जानते हैं कि गुजरात में शराब पर बैन लगा है लेकिन इसके बावजूद काफी लोग शराब की कालाबजारी करते हैं। ऐसे में इनपर लगाम लगाने का काम गुजरात पुलिस करती हैं। हाल ही में गुजरात में शराब को लेकर एक ऐसा नजारा सामने आया है जिसे देखकर लोगों को लगेगा कि ये कोई फिल्मी सीन हैं।

ये तो हम सभी जानते हैं कि गुजरात में शराब पर बैन लगा है लेकिन इसके बावजूद काफी लोग शराब की कालाबजारी करते हैं। ऐसे में इनपर लगाम लगाने का काम गुजरात पुलिस करती हैं। हाल ही में गुजरात में शराब को लेकर एक ऐसा नजारा सामने आया है जिसे देखकर लोगों को लगेगा कि ये कोई फिल्मी सीन हैं। शाहरुख खान की फिल्म रईस का वह सीन आप सभी को याद होगा। जिसमे पुलिस अफसर बने नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी ने अवैध शराब के जत्थे पर बुलडोजर चलाया था। ठीक उसी तरह का नजारा गुजरात के सूरत में देा गया। जहां पुलिस के कहने पर लगभग 2 करोड़ की शराब पर बुल्डोजर चलाया गया।

इसे भी पढ़ें: ICC WTC रैंकिंग में भारत दूसरे स्थान पर बरकरार, टॉप पर ऑस्ट्रेलिया की टीम  

नये साल के मौके पर गुजरात पुलिस ने सूरत में कई जगह छापेमारी की थी जिस दौरान काफी शराब जब्त की गयी। इन शराब को ट्रकों से खाली जगह लाया गया और फिर इसपर बुल्डोजर चलवा दिया गया। इन अवैध शराब की बोतलों की कीमत बाजार में 1.94 करोड़ रुपए आंकी गई है।

इसे भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट ने नौसेना से 10 महिला अधिकारियों को कार्यमुक्त करने पर रोक लगाई  

गुजरात पुलिस ने मंगलवार को ग्रामीण सूरत के दो पुलिस स्टेशनों में जब्त लगभग 2 करोड़ की अवैध शराब को नष्ट कर दिया। सूरत की पुलिस अधीक्षक उषा राडा ने कहा कि यह शराब दो साल से अधिक समय तक जब्त की गई और सूरत के बारडोली इलाके के पास नष्ट कर दी गई। उन्होंने कहा, "पलसाना और कदोदरा पुलिस थानों द्वारा दो साल की अवधि में जब्त की गई शराब को नष्ट कर दिया गया था। शराब की कीमत लगभग  2 करोड़ थी। बारडोली के पास के एक गांव में इसे नष्ट कर दिया गया था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।