MP में मंत्रियों के बीच तकरार, भाजपा ने कहा- सरकार नहीं, सर्कस चल रहा है

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jun 22 2019 6:42PM
MP में मंत्रियों के बीच तकरार, भाजपा ने कहा- सरकार नहीं, सर्कस चल रहा है
Image Source: Google

मध्य प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार बसपा, सपा और चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से बहुत हल्के से बहुमत पर टिकी है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री कमलनाथ के नेतृत्व में बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में पार्टी के वरिष्ठ नेता ज्यातिरोदित्य सिंधिया और कमलनाथ समर्थक मंत्रियों के बीच कथित तीखी तकरार की खबरों की एक तरह से पुष्टि करते हुए कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने मंत्रियों से अपील की है कि वे लाखों कांग्रेस कार्यकर्ताओं और जनता से मिले विश्वास का सम्मान करें तथा ऐसा कोई आचरण न करें जिससे उन्हें आघात पहुँचे। वहीं, मामले पर भाजपा ने कटाक्ष करते हुए कहा है कि प्रदेश में सरकार नहीं, बल्कि सर्कस चल रहा है। खबरों के मुताबिक कैबिनेट की बैठक में मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर और सुखदेव पांसे के बीच किसी मुद्दे पर कथित तौर पर तीखी तकरार हो गई जिसके बाद कैबिनेट विभाजित नजर आई। 

इसे भी पढ़ें: अगले हफ्ते जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेंगे प्रधानमंत्री मोदी

उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश में कमलनाथ के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार बसपा, सपा और चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से बहुत हल्के से बहुमत पर टिकी है। गुटों में विभाजित कैबिनेट मंत्रियों के बीच मतभेद की खबरों के चलते समर्थन दे रहे निर्दलीय विधायक जब-तब सरकार को आंख दिखाने लगते हैं। इन्दौर से भाजपा के वरिष्ठ विधायक रमेश मेंदोला ने इस बारे में कहा, ‘‘मध्य प्रदेश में सरकार नहीं, सर्कस चल रहा है। सरकार तो चल ही नहीं पा रही है, मंत्री आपस में इतना लड़-झगड़ रहे हैं कि सरकार चलाने का समय नहीं मिल पा रहा है। एक-दूसरे नेता को समझाने, मनाने में समय लग रहा है। प्रदेश में शासन, प्रशासन नाम की चीज नहीं रही।’’ इस बीच, पूर्व नेता प्रतिपक्ष एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय सिंह ने शुक्रवार को जारी अपने बयान में प्रदेश के सभी मंत्रियों से अपील की है कि वे लाखों कांग्रेस कार्यकर्ताओं और जनता से मिले विश्वास का सम्मान करें और ऐसा कोई आचरण न करें जिससे उन्हें आघात पहुँचे। 


उन्होंने मंत्रिमंडल की बैठक में हुए कथित घटनाक्रम को दुखद बताया और कहा कि निश्चित ही इससे कार्यकर्ताओं और जिस जनता ने जनादेश दिया है, उसे कष्टपहुँचा है। इधर, प्रदेश कांग्रेस की प्रवक्ता शोभा ओझा ने कैबिनेट मंत्रियों के बीच मतभेद के सवाल पर कहा, ‘‘कोई मतभेद नहीं है। बार-बार हम कह रहे हैं कि यह अफवाह है। खुद मंत्री तोमर ने कहा कि कोई मतभेद नहीं है। पूरी कैबिनेट, पूरे विधायक, पूरा संगठन आदरणीय कमलनाथ जी के नेतृत्व तले एक है।’’ वहीं, सिंधिया के कट्टर समर्थक माने जाने वाले प्रदेश सरकार के परिवहन मंत्री गोविंद राजपूत ने कहा कि कैबिनेट के मंत्रियों में मतभेद की अखबारों की खबरें बेबुनियाद हैं। कुछ नहीं हुआ है। अखबार में सब ‘‘फालतू’’ छप रहा है।



 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video