हरियाणा बोर्ड की इतिहास की किताब पर विवाद, लिखा- कांग्रेस की तुष्टिकरण नीति विभाजन के कारणों में से एक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   10:39
हरियाणा बोर्ड की इतिहास की किताब पर विवाद, लिखा- कांग्रेस की तुष्टिकरण नीति विभाजन के कारणों में से एक
प्रतिरूप फोटो
ANI Image

बंटवारे से पहले की घटनाओं का जिक्र करते हुए बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड किए गए किताब के एक हिस्से में कहा गया है कि मुस्लिम लीग ने कांग्रेस के रास्ते में रुकावटें पैदा करने की नीति अपनाई। दूसरी तरफ, कांग्रेस ब्रिटिश सरकार के खिलाफ मुस्लिम लीग का समर्थन चाहती थी।

चंडीगढ़। वर्तमान शैक्षणिक सत्र से हरियाणा स्कूली शिक्षा बोर्ड (एचबीएसई) द्वारा चलाई जा रही कक्षा नौ की इतिहास की पाठ्यपुस्तक में 1947 में भारत के विभाजन के कारणों में से एक के रूप में कांग्रेस की “तुष्टिकरण” नीति का उल्लेख है। बंटवारे से पहले की घटनाओं का जिक्र करते हुए बोर्ड की वेबसाइट पर अपलोड किए गए किताब के एक हिस्से में कहा गया है, “मुस्लिम लीग ने कांग्रेस के रास्ते में रुकावटें पैदा करने की नीति अपनाई। दूसरी तरफ, कांग्रेस ब्रिटिश सरकार के खिलाफ मुस्लिम लीग का समर्थन चाहती थी।” 

इसे भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट का फैसला फडणवीस के पाखंड को उजागर करता है: नाना पटोले 

इसमें कहा गया, “1916 का लखनऊ समझौता, 1919 का खिलाफत आंदोलन और गांधी-जिन्ना वार्ता कांग्रेस के ‘तुष्टीकरण’ के उदाहरण थे। इसने सांप्रदायिकता को बढ़ावा दिया। मोहम्मद अली जिन्ना से बार-बार अनुरोध करने के परिणामस्वरूप उन्हें अनुचित महत्व मिला और वह हमेशा कांग्रेस का विरोध करने लगे। देश के हालात खराब होने लगे। सांप्रदायिक दंगे भड़क रहे थे, जिसके पीछे मुस्लिम लीग का हाथ था।” हिंदी में अपलोड की गई पुस्तक के अध्याय में कहा गया कि कांग्रेस ने तब महसूस किया कि शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए, देश के विभाजन को स्वीकार करना आवश्यक है।

इसमें यह भी कहा गया कि देश के विभाजन के पीछे अन्य प्रमुख कारणों में कांग्रेस नेतृत्व की शिथिलता और सत्ता का लालच था। किताब में कहा गया, “कांग्रेस नेतृत्व की शिथिलता... वे और संघर्ष के लिए तैयार नहीं थे। कुछ कांग्रेसी नेता आजादी के तुरंत बाद सत्ता का स्वाद चखना चाहते थे।” किताब के एक खंड में यह भी कहा गया है कि अगर दोनों देशों के बीच शांति सुनिश्चित करने के लिए बंटवारा जरूरी था तो आज तक शांति स्थापित क्यों नहीं हो पाई। 

इसे भी पढ़ें: राज ठाकरे, आदित्य हों या पवार सभी अयोध्या के द्वार, वजूद को नकारने वाली कांग्रेस भी कहने लगी- रामलला हम आएंगे 

एचबीएसई के अध्यक्ष प्रो. जगबीर सिंह ने कहा कि किताब इतिहास की घटनाओं को उसी तरह बताती है जैसे वे घटित हुईं। उन्होंने कहा कि इस पुस्तक की विख्यात इतिहासकारों ने समीक्षा की है। सिंह ने कहा कि किताब को मौजूदा शैक्षणिक सत्र से पढ़ाया जाएगा। कांग्रेस के “तुष्टिकरण” वाले खंड पर टिप्पणी करते हुए, हरियाणा कांग्रेस नेता और राज्य की पूर्व शिक्षा मंत्री गीता भुक्कल ने कहा कि देश के स्वतंत्रता संग्राम में पार्टी की भूमिका के बारे में हर कोई जानता है। उन्होंने कहा, “तथ्यों को वैसे ही बताया जाना चाहिए जैसे वे हैं। लेकिन अगर इन्हें तोड़-मरोड़ कर पेश किया जाए, तो बच्चों को वास्तविकता का पता नहीं चलेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...