कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी ने साधा मुख्यमंत्री पर निशाना, कहा कांग्रेस को छोड़ कोरोना की चिंता करें

कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष सुरेंद्र चौधरी ने साधा मुख्यमंत्री पर निशाना, कहा कांग्रेस को छोड़ कोरोना की चिंता करें

उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमण से बचाव के ठोस कदम उठाए न कि कांग्रेस पार्टी व कांग्रेस नेताओं को कोसने के बजाय प्रदेश में कोरोना महामारी के मौजूदा हालात को लेकर विपक्षी दल के आवश्यक सुझावों को अमल में लाएं।

भोपाल। प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार हो रही वृद्धि व लगातार हो रही मौतों को रोकने में शिवराज सरकार के फिसड्डी साबित होने का आरोप लगाते हुए मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष एवं पूर्व मंत्री सुरेंद्र चौधरी ने कहा कि सत्ता की भूखी शिवराज सरकार ने माननीय उच्च न्यायालय ग्वालियर के द्वारा कोरोना संक्रमण से आमजनों के बचाव हेतु दिए गए आदेशों का पालन प्रदेश में कराने के वजाय माननीय न्यायालय के आदेश को निरस्त कराने में ज्यादा रुचि ली। परिणाम स्वरूप प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या में लगातार वृद्धि होने के साथ-साथ मौतों के आंकड़े भी बड़े हैं।

 

इसे भी पढ़ें: धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोपी विधायक आरिफ मसूद ने जारी किया वीडियो, कहा-मैं फरार नहीं हूं

उन्होंने अपने बयान में कहा कि राज्य मंत्री परिषद के सदस्य प्रदेशवासियों को कोरोना संक्रमण से बचाव व मौतें रोकने के लिए ठोस कदम उठाने के बजाय जीत का जश्न मनाने में जुटे हुए हैं। जो भाजपा सरकार की असंवेदनशीलता को उजागर करता है। सुरेंद्र चौधरी ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा पत्रकार वार्ता में कांग्रेस नेताओं पर दिए गए उनके बयान पर पलटवार करते हुए  सुरेन्द्र चौधरी न कहा कि प्रदेश में फैली बेरोजगारी और लाखों परिवारों की राशन पर्चियां बंद कर उन्हें खाद्यान्न से वंचित कर दिया गया। उन्होंने कहा कि शिवराज सिंह चौहान कोरोना संक्रमण से बचाव के ठोस कदम उठाए न कि कांग्रेस पार्टी व कांग्रेस नेताओं  को कोसने के बजाय प्रदेश में कोरोना महामारी के मौजूदा हालात को लेकर विपक्षी दल के आवश्यक सुझावों को अमल में लाएं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।