भारत में आयी कोरोना केस में कमी, एक दिन में कोविड 19 के 1,73,790 नए मरीज

भारत में आयी कोरोना केस में कमी, एक दिन में कोविड 19 के 1,73,790 नए मरीज

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत को काफी हद तक बर्बाद करके रख दिया था। ऑक्सीजन की कमी से , अस्पतालों में दवाई और बेड की कमी से महीनों भारतीय तड़पे हैं। अब कोरोना मामलों में कमी देखी जा सकती हैं।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने भारत को काफी हद तक बर्बाद करके रख दिया था। ऑक्सीजन की कमी से , अस्पतालों में दवाई और बेड की कमी से महीनों भारतीय तड़पे हैं। अब कोरोना मामलों में कमी देखी जा सकती हैं। रोजाना मामलों में गिरावट की प्रवृत्ति को बनाए रखते हुए, भारत ने शनिवार को कोविड -19 के 1,73,790 नए मामले दर्ज किए। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले 24 घंटों में सक्रिय मामलों में 1,14,428 की कमी के साथ देश में सक्रिय केस घटकर 22,28,724 हो गया। ताजा आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 3,617 लोगों ने दम तोड़ा है।

पिछले 24 घंटों के दौरान 2,84,601 रोगियों के ठीक होने के साथ, दैनिक मामलों में रिकवरी जारी रही है। देश में अब तक संक्रमण से उबरने वाले कुल 2,51,78,011 मरीजों के साथ स्वस्थ होने की दर बढ़कर 90.80 प्रतिशत हो गई है। भारत में मामले की सकारात्मकता दर घटकर 8.36 प्रतिशत रह गई।

इसे भी पढ़ें: योगी की पुलिस पर किसान दंपति ने लगाए गंभीर आरोप, मारपीट करके छह लाख रुपए लूटे 

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुक्रवार को उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में प्रशासित कोविड -19 वैक्सीन खुराक की संचयी संख्या 20.86 करोड़ को पार कर गई है। उत्तर प्रदेश, बिहार और तमिलनाडु जनसंख्या कवरेज के मामले में कोविड -19 टीकाकरण तालिका के नीचे स्थित राज्यों में से हैं, जबकि केरल और दिल्ली अपनी आबादी के अधिकतम कोविड -19 वैक्सीन कवरेज के साथ तालिका में सबसे आगे हैं।

उत्तर प्रदेश में लगभग 8.5 प्रतिशत आबादी को कोविड -19 वैक्सीन का कम से कम एक शॉट, बिहार में 9.6 प्रतिशत, तमिलनाडु में 11.6 प्रतिशत, झारखंड में 12.5 और असम में 12.9 प्रतिशत प्राप्त हुआ है।

इसे भी पढ़ें: केन्द्र सरकार टीकों की बर्बादी पर आंकड़े दुरुस्त करेगी, झारखंड ने दर्ज करायी थी आपत्ति  

आपकों बता दें राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रमुख सचिवों को पत्र लिखा है और उन्हें उन बच्चों पर सभी आवश्यक डेटा अपलोड करने के लिए कहा है जो अनाथ हो गए हैं या अपने माता-पिता में से किसी एक को कोविड -19 महामारी से खो चुके हैं। डेटा को कोविड-केयर लिंक के तहत बाल स्वराज पोर्टल पर अपलोड किया जाना है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।