आरपीएन सिंह ने पार्टी को कहा अलविदा तो कांग्रेस बोली- कायर लोग नहीं लड़ सकते लड़ाई

Supriya Shrinate
प्रतिरूप फोटो
कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने आरपीएन सिंह पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जो लड़ाई लड़ रही है, वह बहादुरी से ही लड़ी जा सकती है... इसके लिए साहस, ताकत की जरूरत है और प्रियंका गांधी जी ने कहा है कि कायर लोग इसे नहीं लड़ सकते हैं।

नयी दिल्ली। उत्तर प्रदेश समेत पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने कांग्रेस को अलविदा कहकर भाजपा का दामन थाम लिया है। इसको लेकर कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने आरपीएन सिंह पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस जो लड़ाई लड़ रही है, वह बहादुरी से ही लड़ी जा सकती है... इसके लिए साहस, ताकत की जरूरत है और प्रियंका गांधी जी ने कहा है कि कायर लोग इसे नहीं लड़ सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: UP Assembly Election: कांग्रेस के 'स्टार प्रचारक' ने छोड़ा हाथ, हुए बीजेपी के साथ, कहा- देर आए दुरुस्त आए 

आरपीएन सिंह ने कहा अलविदा

पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह ने मंगलवार को कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया। इस्तीफे से एक दिन पहले ही कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए उन्हें अपने स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल किया था। आरपीएन सिंह ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को भेजे त्यागपत्र की प्रति ट्विटर पर साझा की और कहा कि आज जब पूरा राष्ट्र गणतंत्र दिवस का उत्सव मना रहा है, मैं अपने राजनीतिक जीवन में नया अध्याय आरंभ कर रहा हूं। जय हिंद। 

इसे भी पढ़ें: हाथ छोड़ कमल थामेंगे पूर्व केंद्रीय मंत्री आरपीएन सिंह, स्वामी प्रसाद मौर्य की बढ़ेगी टेंशन  

कांग्रेस में आरपीएन सिंह राष्ट्रीय प्रवक्ता और झारखंड के प्रभारी की जिम्मेदारी निभा रहे थे। आरपीएन सिंह मनमोहन सरकार में गृह राज्य मंत्री रहे हैं। उन्होंने साल 2009 में कुशीनगर संसदीय क्षेत्र से चुनाव जीता था। अब उन्होंने पार्टी को अलविदा कहते हुए भाजपा का दामन थाम लिया है। माना जा रहा है कि भाजपा उन्हें स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ चुनावी मैदान में उतारने वाली है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़