ओमीक्रोन वेरिएंट को लेकर दिल्ली सतर्क, केजरीवाल ने अधिकारियों से मुलाकात कर तैयारियों का लिया जायज़ा

ओमीक्रोन वेरिएंट को लेकर दिल्ली सतर्क, केजरीवाल ने अधिकारियों से मुलाकात कर तैयारियों का लिया जायज़ा

केजरीवाल ने कहा कि हम हर नगर पालिका वार्ड में 100 ऑक्सीजन बेड्स को 2 हफ्ते के नोटिस में तैयार कर सकते हैं। दिल्ली में 270 वार्ड हैं तो इस तरह से हम 27,000 ऑक्सीजन बेड्स और तैयार कर सकते हैं।

कोरोना वायरस के नए विदेशी वेरिएंट के ख़तरे को देखते हुए दिल्ली अपनी पुख़्ता तैयारियों में जुटी है। खुद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल इसकी निगरानी कर रहे हैं। अरविंद केजरीवाल ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि ओमीक्रोन वेरिएंट को देखते हुए संबंधित अधिकारियों से मुलाकात कर तैयारियों का जायज़ा लिया। हमने करीब 30,000 ऑक्सीजन बेड्स तैयार कर लिए हैं जिसमें से लगभग 10,000 ICU बेड्स हैं। इसके अलावा 6,800 ICU बेड्स निर्माणाधीन हैं जो फ़रवरी तक तैयार हो जाएंगे।

केजरीवाल ने कहा कि हम हर नगर पालिका वार्ड में 100 ऑक्सीजन बेड्स को 2 हफ्ते के नोटिस में तैयार कर सकते हैं। दिल्ली में 270 वार्ड हैं तो इस तरह से हम 27,000 ऑक्सीजन बेड्स और तैयार कर सकते हैं। इन सबको मिलाकर हम 63,800 बेड्स तैयार कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने कोविड-19 के इलाज में इस्तेमाल होने वाली 32 दवाओं के दो महीने के भंडारण का आदेश दिया, 442 मीट्रिक टन चिकित्सकीय ऑक्सीजन भंडारण क्षमता तैयार रखी गई है। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली की इस कॉलोनी के लोगों को मिलेगा 20 हज़ार लीटर मुफ्त पानी, केजरीवाल ने किया ऐलान

उठाए सवाल

इससे पहले केजरीवाल ने कोरोना वायरस के ओमीक्रोन स्वरूप से प्रभावित देशों से उड़ानों को रोकने में विलंब पर सवाल उठाए। केजरीवाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना वायरस के नए स्वरूप से प्रभावित देशों से आने वाली उड़ानें तत्काल प्रभाव से रद्द करने को कहा था। उन्होंने एक पत्र में कहा कि कोविड-19 के नए स्वरूप के मद्देनजर यूरोपीय संघ समेत कई देशों ने प्रभावित क्षेत्रों के साथ यात्राएं निलंबित कर दीं। केजरीवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के इस चिंताजनक नए स्वरूप को भारत में आने से रोकने के लिए हर संभव कोशिश की जानी चाहिए। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रभावित क्षेत्रों से उड़ानें तत्काल प्रभाव से रद्द करने की अपील करते हुए कहा कि अगर कोई भी पीड़ित भारत में प्रवेश करता है तो इस संबंध में किसी भी देरी का खामियाजा उठाना पड़ सकता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।