दिल्ली HC ने जयराम रमेश समेत कांग्रेस के 3 नेताओं को भेजा नोटिस, स्मृति ईरानी की बेटी से जुड़ा ट्वीट भी डिलीट करने को कहा

jairam ramesh
ANI
अंकित सिंह । Jul 29, 2022 1:35PM
एक प्रेस कांफ्रेंस करके स्मृति ईरानी ने साफ तौर पर कहा था कि उनकी बेटी छात्रा है, वह कोई बार नहीं चलाती है। स्मृति ईरानी ने साफ तौर पर कहा था कि उनकी बेटी के खिलाफ लगाए गए आरोप पूरी तरह आधारहीन और मनगढ़ंत है। आपको बता दें कि इस मामले में अब कोर्ट 18 अगस्त को अगली सुनवाई करेगी।

दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी द्वारा दायर मानहानि की अर्जी को लेकर आज कांग्रेस नेता जयराम रमेश, पवन खेड़ा और नेता डिसूजा को एक नोटिस जारी किया है। इसके साथ ही दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेसी नेताओं से स्मृति ईरानी की बेटी से जुड़ा ट्वीट भी तुरंत डिलीट करने को कहा। आपको बता दें कि कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने स्मृति ईरानी की बेटी पर अवैध लाइसेंस के द्वारा बाढ़ चलाने का आरोप लगाया था। हालांकि, एक प्रेस कांफ्रेंस करके स्मृति ईरानी ने साफ तौर पर कहा था कि उनकी बेटी छात्रा है, वह कोई बार नहीं चलाती है। स्मृति ईरानी ने साफ तौर पर कहा था कि उनकी बेटी के खिलाफ लगाए गए आरोप पूरी तरह आधारहीन और मनगढ़ंत है। आपको बता दें कि इस मामले में अब कोर्ट 18 अगस्त को अगली सुनवाई करेगी।

इसे भी पढ़ें: सोनिया गांधी के समर्थन में आए गैर-कांग्रेसी नेता, बोले- उन्हें झुंड में घेरा गया

वहीं, कांग्रेस नेता जयराम रमेश का ट्वीट कर कहा कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने हमें स्मृति ईरानी द्वारा दायर मामले का औपचारिक जवाब देने के लिए नोटिस जारी किया है। हम अदालत के सामने तथ्यों को पेश करने के लिए उत्सुक हैं। हम स्मृति ईरानी द्वारा डाली जा रही दायर मुकदमें को चुनौती देंगे और खारिज करेंगे। आपको बता दें कि केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने रविवार को कांग्रेस नेताओं-जयराम रमेश और पवन खेड़ा को कानूनी नोटिस भेजकर कहा था कि वे उन पर तथा उनकी बेटी पर लगाए गए ‘‘निराधार और झूठे’’ आरोपों के लिए माफी मांगें। ईरानी की ओर से यह कदम कांग्रेस नेताओं द्वारा आरोप लगाए जाने के एक दिन बाद उठाया गया था। रमेश और खेड़ा ने ईरानी की 18 वर्षीय बेटी जोइश ईरानी पर गोवा में अवैध रूप से बार चलाने का आरोप लगाया था।

इसे भी पढ़ें: अधीर रंजन की आपत्तिजनक टिप्पणी को लेकर Parliament में भारी हंगामा, स्मृति और सोनिया की भी ठन गई

कानूनी नोटिस में कहा गया था कि अगर कांग्रेस नेता बिना शर्त और स्पष्ट रूप से माफी नहीं मांगते हैं तथा अपने आरोप वापस नहीं लेते हैं, तो ईरानी उनके खिलाफ दीवानी और आपराधिक कार्यवाही शुरू करेंगी। बयान में साफ तौर पर कहा गया था कि ये आरोप न केवल हमारी मुवक्किल और उनकी बेटी की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाते हैं, बल्कि उनकी गरिमा को भंग करने का भी प्रयास हैं। ईरानी ने दावा किया था कि अखबार ‘नेशनल हेराल्ड’ मामले में सोनिया और राहुल गांधी की ‘‘5,000 करोड़ रुपये की लूट’’ पर उनके मुखर रुख के कारण उनकी बेटी को निशाना बनाया जा रहा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़