क्या सच में भाजपा प्रवक्ता को नहीं पता था श्रम मंत्री का नाम ? कांग्रेस प्रवक्ता ने लगाई फटकार

क्या सच में भाजपा प्रवक्ता को नहीं पता था श्रम मंत्री का नाम ? कांग्रेस प्रवक्ता ने लगाई फटकार

कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों का हाल भी किसी से छुपा नहीं है। आजादी के बाद भारत ने सबसे बड़ा पलायन देखा। हालांकि सरकारों ने प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए ट्रेनें और बसों का इंतजाम किया लेकिन श्रम मंत्री नदारद रहे।

नयी दिल्ली। देशव्यापी लॉकडाउन के चौथे चरण की मियाद 31 मई को पूरी हो रही है। ऐसे में सरकार की आगे योजना क्या होगी इसकी जल्द ही घोषणा हो सकती है क्योंकि देश में लगातार कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ते जा रहे हैं और शनिवार 30 जून को जो आंकड़े सामने आए उसने अभी तक के संक्रमण के तमाम आंकड़ों को पीछे छोड़ दिया और इसी के साथ देश में इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 1,73,763 हो गई है।

कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों का हाल भी किसी से छुपा नहीं है। आजादी के बाद भारत ने सबसे बड़ा पलायन देखा। हालांकि सरकारों ने प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए ट्रेनें और बसों का इंतजाम किया लेकिन श्रम मंत्री नदारद रहे। ऐसे आरोप लग रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: देश में कोरोना मरीजों की संख्या 1.70 लाख के पार, 24 घंटे में रिकॉर्ड 7964 मामले 

बीते दिन एबीपी न्यूज चैनल के कार्यक्रम में मजदूरों के विषय पर भाजपा और कांग्रेस प्रवक्ता के साथ एंकर का डिस्कशन चल रहा था। तभी अचानक से कांग्रेस प्रवक्ता रोहन गुप्ता ने भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया से पूछा आपको अपने श्रम मंत्री का नाम पता है। लेकिन गौरव भाटिया ने कहा कि जब मेरा समय आएगा तब मैं बता दूंगा। लेकिन उन्होंने नाम नहीं बताया। तभी कांग्रेस प्रवक्ता ने लगातार नाम जानने की बात कही लेकिन गौरव भाटिया जवाब देने की जगह बातों को टालते हुए दिखे और एंकर से लगातार बोलते रहे कि इनको (कांग्रेस प्रवक्ता) को चुप करा दीजिए।

इस तमाम घटनाक्रम के बाद गौरव भाटिया ने कहा कि संतोष गंगवार देश के श्रम मंत्री हैं। तभी कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि लगता है आपका नेट स्लो है और आप गूगल से ढूंढ रहे हैं। तो सवाल ये खड़ा होता है कि क्या सच में भाजपा प्रवक्ता को अपने ही सरकार के श्रम मंत्री का नाम नहीं पता था ? और बाद में एंकर ने भी पूछा कि आपको श्रम मंत्री का नाम बताने में इतना समय क्यों लगा ? 

इसे भी पढ़ें: बिहार में Covid-19 के 174 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 3,359 पहुंची 

हालांकि इस दौरान एंकर ने पहले कांग्रेस प्रवक्ता को ही उलझाने का प्रयास किया और कहा कि आप तीन-चार सवाल ऐसे लेकर आ जाते हैं... यह ट्रिक क्या है ? आप श्रम मंत्री का नाम जानता चाहते हैं ? फिर बाद में एंकर ने भाजपा प्रवक्ता से पूछा कि आपको श्रम मंत्री का नाम बताने में इतना समय क्यो लगा ?

सोशल मीडिया में वायरल हुआ वीडियो ?

कांग्रेस और भाजपा प्रवक्ता के बीच हुए सवाल-जवाब का यह वीडियो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर तेजी से वायरस हो गया। यूजर्स ने गूगल_सर्च_मत_करिये नाम के हैशटैग के सहारे वीडियो को पोस्ट किया और देखते ही देखते गूगल_सर्च_मत_करिये हैशटैग ट्रेंड करने लगा। वीडियो को गौर से देखने पर यह पता चलता है कि गौरव भाटिया स्क्रीन पर नहीं देख रहे थे और अपने मोबाइल का इस्तेमाल कर रहे थे। हालांकि मोबाइल फोन स्क्रीन में दिखाई नहीं दे रहा है।  

इसे भी पढ़ें: रेलवे ने 52 लाख यात्रियों को भोजन के 85 लाख पैकेट, पानी की सवा करोड़ बोतलें मुहैया कराई 

जब श्रम मंत्री का नाम बताने में भाजपा प्रवक्ता गौरव भाटिया को काफी समय लगा तो कांग्रेस प्रवक्ता ने उन्हें फटकारा और कहा कि राष्ट्रीय प्रवक्ता होकर अपनी ही सरकार के श्रम मंत्री का नाम नहीं मालूम है और बात कर रहे हो मजदूरों की ! शर्म आनी चाहिए आप लोगों को।

क्या जून के बाद वापस आएंगे प्रवासी ?

केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार सोशल मीडिया पर ज्यादा एक्टिव नजर नहीं आते हैं। वह ज्यादातर ट्वीट को रिट्वीट करते हुए देखे जा सकते हैं। इसके साथ ही उनका ट्विटर अकाउंट वैरिफाइड भी नहीं हैं। मीडिया रिपोट्स के मुताबिक हाल ही में जब उनसे प्रवासी मजदूरों के वापसी और उद्योग से जुड़ा हुआ सवाल पूछा गया था तो उन्होंने कहा था कि ये प्रवासी मजदूर जून के बाद वापस आ जाएंगे। लेकिन सवाल यह खड़ा होता है कि क्या जून के बाद मजदूर वापस आ जाएंगे ? जबकि कोरोना वायरस का संकट अभी भी बना हुआ है और न तो इसकी कोई दवा सामने आई है और न ही वैक्सीन।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...