किसान प्रदर्शन: दिल्ली पुलिस के वाहन जांच तेज करने पर सीमाओं पर लगा भारी जाम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2020   21:33
किसान प्रदर्शन: दिल्ली पुलिस के वाहन जांच तेज करने पर सीमाओं पर लगा भारी जाम

अधिकारियों ने बताया कि किसानों के विरोध को देखते हुए एनसीआर के पड़ोसी शहरों से राष्ट्रीय राजधानी तक चलने वाली दिल्ली मेट्रो सेवाओं को निलंबित कर दिया गया।

नयी दिल्ली। हरियाणा और उत्तर प्रदेश से राष्ट्रीय राजधानी आने वाले लोगों को कई सीमा क्रॉसिंग पर भारी यातायात जाम का सामना करना पड़ा क्योंकि केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब के किसानों के दिल्ली चलो मार्च के मद्देनजर बृहस्पतिवार को दिल्ली पुलिस ने वाहन जांच तेज कर दी। पंजाब के किसानों का मार्च पांच राजमार्गों के माध्यम से दिल्ली पहुंचने वाला है। दिल्ली से लगभग 215 किलोमीटर दूर हरियाणा में शंभू सीमा पर बृहस्पतिवार को तनाव बढ़ गया, क्योंकि पंजाब से आने वाले सैकड़ों किसानों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने पानी की बौछार और आंसू गैस का इस्तेमाल किया, जबकि कई किसानों ने हरियाणा में प्रवेश करने के लिए बैरिकेड को तोड़ दिया, जिनमें से कुछ को नदी में फेंक दिया। अधिकारियों ने बताया कि किसानों के विरोध को देखते हुए एनसीआर के पड़ोसी शहरों से राष्ट्रीय राजधानी तक चलने वाली दिल्ली मेट्रो सेवाओं को निलंबित कर दिया गया।

हालांकि, मेट्रो सेवाएं दिल्ली से एनसीआर के शहरों की ओर जाने वाली सभी मार्गों पर उपलब्ध होंगी। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने बताया कि विरोध मार्च के मद्देनजर एहतियात के तौर पर हरियाणा के साथ लगने वाली फरीदाबाद, सिंघु और गुड़गांव सीमा क्रॉसिंग पर सुरक्षा बलों की भारी तैनाती की गई है और वाहन जांच तेज कर दी गई है। उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश के साथ डीएनडी और राष्ट्रीय राजमार्ग-24 क्रॉसिंग पर भी वाहनों की जाँच की जा रही है। उन्होंने बताया कि सीमाओं को सील नहीं किया गया है, लेकिन प्रदर्शनकारियों के ट्रकों और ट्रैक्टरों को रोकने के लिए बैरिकेड और सीमेंट ब्लॉक लगाए गए हैं। हरियाणा और उत्तर प्रदेश से राष्ट्रीय राजधानी आने वाले कई यात्रियों ने वाहन जांच के कारण यातायात जाम की शिकायत की। पेशे से वकील रोहित तोमर ने कहा, मैं सुबह एक मामले के संबंध में नोएडा गया था। जब मैं शाम को वहाँ से लौट रहा था, तो दिल्ली-नोएडा सीमा पर भारी ट्रैफ़िक था। उन्होंने कहा, पुलिस कर्मी वाहनों की जांच कर रहे थे। मैं लगभग आधे घंटे तक वहां फंसा रहा। 

इसे भी पढ़ें: देवेगौड़ा ने केन्द्र से कहा- किसानों के साथ सम्मान से पेश आएं, उनसे बातचीत करें

हरियाणा के मानेसर में एक रियल एस्टेट कंपनी में काम करने वाले अभिषेक सिन्हा ने कहा, आम तौर पर मुझे 40 से 45 मिनट लगते हैं, लेकिन आज एक घंटे से अधिक लग गया। मैं रोजाना द्वारका से आवागमन करता हूं। गुड़गांव में काम करने वाली प्रियंका राय ने कहा कि उन्हें दिल्ली के छतरपुर में मेट्रो ट्रेन से उतरना पड़ा क्योंकि सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है। दिल्ली पुलिस के जवान बड़ी संख्या में अंतरराज्यीय सीमाओं पर तैनात हैं, क्योंकि पंजाब के 30 से अधिक कृषि संगठनों ने घोषणा की है कि वे लालरू, शंभू, पटियाला-पिहोवा, पटरान-खनौरी, मूनक-टोहाना, रतिया-फतेहाबाद और तलवंडी-सिरसा सहित कई मार्गों से दिल्ली पहुंचेंगे। पुलिस ने बताया कि प्रदर्शनकारियों के ट्रैक्टरों को रोकने के लिए सिंघु सीमा पर रेत से भरे पांच ट्रकों को तैनात किया गया है। पुलिस ने बताया कि सुरक्षा उद्देश्यों के लिए ड्रोन तैनात किए गए हैं। दिल्ली पुलिस आयुक्त एस एन श्रीवास्तव ने सीमावर्ती क्षेत्रों का दौरा किया और वहां की स्थिति का जायजा लिया। पुलिस ने बताया कि मध्य दिल्ली के जंतर-मंतर को बैरिकेड्स से बंद कर दिया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।