• पुडुचेरी में 60 प्रतिशत से अधिक लाभार्थियों को निशुल्क चावल वितरित किए: किरण बेदी

किरण बेदी ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 60 प्रतिशत से अधिक लाभार्थियों को चावल पहले ही बांट दिए गए हैं।’’ इसी तरह केंद्र ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून (मनरेगा) के तहत मजदूरों की दिहाड़ी 229 से 259 रुपये बढ़ा दी है।

नयी दिल्ली। पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी ने बताया कि केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासन ने कोरोना वायरस से लड़ने के लिए लगाए देशव्यापी लॉकडाउन के कारण लोगों की परेशानियों को दूर करने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 60 प्रतिशत से अधिक लाभार्थियों को निशुल्क चावल वितरित किए। उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा’ से फोन पर बातचीत में कहा, ‘‘मैं कोविड-19 लॉकडाउन के कारण लोगों की परेशानियों को दूर करने के लिए 6.5 लाख गरीबों और कमजोर वर्ग के लाभार्थियों को तीन महीने के लिए निशुल्क चावल मुहैया कराने में केंद्र शासित प्रदेश की मदद करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र सरकार का दिल से आभार व्यक्त करती हूं।’’ 

इसे भी पढ़ें: विकसित देश कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत के अनुभव से सीख रहे: जितेंद्र सिंह

बेदी ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के तहत 60 प्रतिशत से अधिक लाभार्थियों को चावल पहले ही बांट दिए गए हैं।’’ इसी तरह केंद्र ने महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून (मनरेगा) के तहत मजदूरों की दिहाड़ी 229 से 259 रुपये बढ़ा दी है। उपराज्यपाल ने कहा कि पुडुचेरी देश में पहली सरकार है जिसने केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा 20 अप्रैल से लॉकडाउन संबंधी दिशा निर्देशों में ढील देने के बाद मनरेगा कार्य शुरू किया है। पूर्व आईपीएस अधिकारी ने बताया कि इसी तरह केंद्र ने प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत इस महीने के पहले हफ्ते में 83,000 महिला लाभार्थियों के बैंक खातों में 500-500 रुपये डाले हैं। उन्होंने बताया कि केंद्र शासित प्रदेश के 9,299 किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत 2,000 रुपये की पहली किस्त दी जा चुकी है।