नीरव मोदी मामले में सरकार को बड़ी सफलता, रिकवरी से मिली 24 करोड़ रुपये की पहली किस्त

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 26, 2020   07:55
नीरव मोदी मामले में सरकार को बड़ी सफलता, रिकवरी से मिली 24 करोड़ रुपये की पहली किस्त

मंत्रालय ने कहा कि 2018 में पीएनबी ने मंत्रालय को अमेरिका में नीरव मोदी की कंपनियों के बारे में जानकारी दी थी।इन कंपनियों ने वहां न्यूयार्क के दक्षिणी जिले में दिवाला सुरक्षा के तहत याचिका दायर की थी। पंजाब नेशनल बैंक ने तब मंत्रालय से न्यूयार्क में दिवाला प्रक्रिया में मदद करने का अनुरोध किया था।

कारपोरेट कार्य मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि अमेरिका में नीरव मोदी की तीन कंपनियों के खिलाफ जारी दिवाला प्रक्रिया के तहत पंजाब नेशनल बैंक को पहली किस्त में 24 करोड़ रुपये की वसूली हुई है। मंत्रालय ने कहा कि 2018 में पीएनबी ने मंत्रालय को अमेरिका में नीरव मोदी की कंपनियों के बारे में जानकारी दी थी।इन कंपनियों ने वहां न्यूयार्क के दक्षिणी जिले में दिवाला सुरक्षा के तहत याचिका दायर की थी। पंजाब नेशनल बैंक ने तब मंत्रालय से न्यूयार्क में दिवाला प्रक्रिया में मदद करने का अनुरोध किया था।

मंत्रालय की विज्ञप्ति में इसकी जानकारी देते हुये कहा गया है कि पीएनबी ने उसे सूचित किया है कि बैंक को उसके बकाये की वसूली के तौर पर 32.5 लाख डालर (24.33 करोड़ रुपये) की पहली किस्त प्राप्त हुई है।इसमें कहा गया है कि कर्जदार की संपत्ति के परिसमापन से अमेरिका के चैप्टर 11 ट्रस्टी के पास 1.10 करोड़ डालर (करीब 82.66 करोड़ रुपये) की राशि उपलब्ध है जिसे पीएनबी सहित बिना सुरक्षा प्रावधान वाले रिणदाताओं में वितरित किया जायेगा। 

इसे भी पढ़ें: नीरव मोदी की हिरासत अवधि 27 अगस्त तक बढ़ी, सुनवाई सितम्बर में शुरू होगी

आगे की वसूली अन्य खर्चो और दूसरे दावेदारों के दावों के निपटान पर निर्भर करेगी। कारपोरेट कार्य मंत्रालय का कहना है कि विदेश में कंपनी धोखाघड़ी के खिलाफ लड़ाई में 32.5 लाख डालर की यह पहली प्राप्ति भारत सरकार और कारपोरेट कार्य मंत्रालय के लिये अप्रत्याशित सफलता है। मंत्रालय ने नीरव मोदी और मेहुल चोकसी द्वारा प्रवर्तित कंपनियों से धन उगलवाने के लिये भी प्रक्रिया शुरू की है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।