निधि राजदान ऑनलाइन धोखाधड़ी की हुईं शिकार, हार्वर्ड ने नहीं की थी नौकरी की पेशकश

निधि राजदान ऑनलाइन धोखाधड़ी की हुईं शिकार, हार्वर्ड ने नहीं की थी नौकरी की पेशकश

पूर्व पत्रकार निधि राजदान ने ट्वीट किया कि मैं एक बहुत बड़े फिशिंग हमले का शिकार हुई हूं। इसके साथ ही उन्होंने अपने बयान की एक प्रति भी शेयर की। जिसमें लिखा है कि 21 साल तक एनडीटीवी में नौकरी करने के बाद जब मुझे हार्वर्ड में एसोसिएट प्रोफेसर की नौकरी मिली तो मैंने अपनी नौकरी छोड़ दी।

नयी दिल्ली। एनडीटीवी इंडिया की पूर्व पत्रकार निधि राजदान फिशिंग (ऑनलाइन धोखाधड़ी) हमले की शिकार हो गई हैं। इसकी जानकारी उन्होंने खुद अपने सोशल मीडिया अकाउंट ट्विटर से दी है। दरअसल, निधि राजदान एनडीटीवी इंडिया में सीनियर एंकर थीं और उन्हें हार्वर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा एसोसिएट प्रोफेसर की नौकरी की पेशकश की गई। जिसके बाद उन्होंने एनडीटीवी इंडिया छोड़कर हार्वर्ड जाने का फैसला किया। 

इसे भी पढ़ें: युवती के फेसबुक फ्रेंड ने धोखाधड़ी कर ठगे लाखों रुपए के जेवर और नगदी 

निधि राजदान ने ट्वीट किया कि मैं एक बहुत बड़े फिशिंग हमले का शिकार हुई हूं। इसके साथ ही उन्होंने अपने बयान की एक प्रति भी शेयर की। जिसमें लिखा है कि 21 साल तक एनडीटीवी में नौकरी करने के बाद जब मुझे हार्वर्ड में एसोसिएट प्रोफेसर की नौकरी मिली तो मैंने अपनी नौकरी छोड़ दी। मुझे सितंबर में वहां ज्वाइन करना था लेकिन मुझे बताया गया कि कोरोना वायरस महामारी की वजह से मेरी क्लासेस जनवरी 2021 से शुरू होंगी। जिसके बाद उन्होंने जनवरी में हार्वर्ड जाने का फैसला किया और फिर उन्होंने यूनिवर्सिटी के अधिकारियों से क्लासेस की जानकारी मांगी। जब उन्होंने यूनिवर्सिटी से इसके बारे में पूछा तो पता चला कि यह सब फर्जी है और यूनिवर्सिटी से पता चला कि ऐसी किसी नौकरी की पेशकश की ही नहीं।  

इसे भी पढ़ें: वेल्डिंग प्लांट के नाम पर 16 लाख की धोखाधड़ी करने वाले आरोपी पिता-पुत्र गिरफ्तार 

निधि राजदान ने बताया कि यूनिवर्सिटी की तरफ से मिली जानकारी के बाद मुझे पता चला कि मैं ऑनलाइन धोखाधड़ी की शिकार हुई हूं और मुझे हार्वर्ड यूनिवर्सिटी से एसोसिएट प्रोफेसर की नौकरी की पेशकश नहीं हुई थी। उन्होंने अपने बयान में यह भी बताया कि उनके व्यक्तिगत डेटा और सोशल मीडिया अकाउंट से मिली जानकारी को चुराकर उनके साथ धोखाधड़ी की गई है। इसके लिए उन्होंने पुलिस के समक्ष शिकायत भी दर्ज कराई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।