मध्य प्रदेश में गुरूवार को कोरोना संक्रमितों की संख्या में आया सुधार, इंदौर में हार्टअटैक से पुलिसकर्मी का निधन

मध्य प्रदेश में गुरूवार को कोरोना संक्रमितों की संख्या में आया सुधार,  इंदौर में हार्टअटैक से पुलिसकर्मी का निधन

कुंवर सिंह खरते लॉकडाउन के दौरान लगातार ड्यूटी कर रहे थे। इस दौरान उन्हें हार्टअटैक आया था। 23 अप्रैल को उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहाँ उनकी सर्जरी की गई थी। शुगर होने से उनकी स्थिति में सुधार नहीं हो रहा था।

भोपाल। मध्य प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 2560 से बढ़कर 2625 हो गई है। राज्य में एक दिन में कोरोना संक्रमितों की संख्या में सुधार आया है। राज्य में गुरूवार को 65 कोरोना संक्रमित मरीज मिले है। जो एक दिन पहले बुधवार को 127 कोरोना संक्रमितों की पहचान हुई थी। इंदौर, भोपाल, और उज्जैन के बाद गुरूवार को जबलपुर में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ी जबकि खंड़वा और खरगौन में यह संख्या स्थिर रही। गुरूवार शाम को स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश में कोरोना पॉजिटिवों की संख्या में सुधार आया है। जबकि 54 कोरोना मरीजों की हालत गंभीर बनी हुई है। राज्य में अब तक कोरोना संक्रमण की वजह से 137 लोगों की मौत हो चुकी है जो एक दिन पहले के मुकाबले 07 अधिक है। गुरूवार 30 अप्रैल, 2020 को स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार प्रदेश के इंदौर में 1476 से बढ़कर 1486,  भोपाल 458 से बढ़कर 508, उज्जैन में 127 से बढ़कर 138 और जबलपुर में 78 से बढ़कर 85 कोरोना पॉजिटिव मरीज हो गए है। स्वास्थ्य विभाग की जानकारी के मुताबिक गुरूवार शाम 6.00 बजे तक तक 41712 सेंपल रिपोर्ट प्राप्त हुई है जिसमें 2625 पॉजिटिव और 29816 निगेटिव रिपोर्ट आई है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में राज्य मंत्रालय ने लॉकडाउन के 38 दिन बाद काम शुरू किया, सीएम ओएसडी सहित कई आदेश किए गए जारी

राज्य के कोरोना हॉटस्पॉट बने इंदौर,  भोपाल,  और उज्जैन के बाद जबलपुर और रायसेन में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ी है। जहाँ बुधवार को इंदौर के मुकाबले भोपाल में सबसे अधिक कोरोना  पॉजिटिव मरीजों मिले यहाँ 25 कोरोना संक्रमित पाए गए, तो इंदौर में 10 , उज्जैन 11, रायसेन में 08 तो जबलपुर में 07, रतलाम में 04, बड़वानी में 02 और शहडोल में 01 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। बुधवार को कोरोना संक्रमण से होने वाली मौतों का आंकड़ा 130 था जो गुरूवार को बढ़कर 137 हो गया। एक दिन में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 07 हो गई है। इंदौर में एक दिन में कोरोना संक्रमण से 65 से बढ़कर 68 मौतें, भोपाल में 14 से बढ़कर 15,  उज्जैन में 23 से बढ़कर 24, खंडवा में 03 से बढ़कर 04 और जबलपुर में 01 मौत हुई है। इस दौरान गुरूवार सुबह इंदौर से एक पुलिसकर्मी के निधन की खबर आई। जिनका ईलाज हार्टअटैक आने के चलते अस्पताल में चल रहा था। चिकित्सकों ने बताया कि एएसआई कुंवर सिंह खरते को शुगर था और उनका हार्ट का ऑपरेशन किया गया था, जिसके बाद उनकी किडनी में शिकायत शुरू हो गई थी। एएसआई के निधन के बाद अब तक इंदौर पुलिस विभाग में यह तीसरी मौत हुई है।  

इसे भी पढ़ें: उज्जैन में कोरोना टेस्ट करवाने गए मजदूरों पर चढ़ा ट्रक, तीन मजदूरों की मौके पर ही मौत

मध्य प्रदेश में गुरूवार 30 अप्रैल, 2020 को 65 कोरोना पॉजिटिव मरीजों की पहचान हुई है। जबकि प्रदेश के 31 जिले अभी भी कोरोना संक्रमण की जद में है। गुरूवार को इंदौर में 1486, भोपाल में 508, खरगोन 70, उज्जैन 138, धार 48, खंडवा 46, जबलपुर 85, रायसेन 55, होशंगाबाद 35, बड़वानी 26, देवास 24, मुरैना 13, विदिशा 13, रतलाम 14, मंदसौर 09, आगर-मालवा 12, शाजापुर 06, सागर 05, ग्वालियर 04, श्योपुर 04, छिंदवाड़ा 05, अलीराजपुर 03, शिवपुरी 02, टीकमगढ़ 02, बैतूल 01, डिंडौरी 01, हरदा 01, बुरहानपुर 01, अशोकनगर 01, शहडोल 03, रीवा 02, तथा अन्य राज्य से आया एक मरीज मध्यप्रदेश में कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। जिन शहरों बुधवार को कोरोना पॉजिटिव बढे है वह है इंदौर, भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, रायसेन, बड़वानी, रतलाम और शहडोल शामिल है। 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का दावा, प्रदेश में राष्ट्रीय औसत से अधिक प्रतिदिन हो रही 04 हजार कोरोना टेस्टिंग

 

वही इंदौर से गुरुवार सुबह एक और दुखद खबर सामने आई। संयोगितागंज पुलिस थाने के एएसआई कुंवर सिंह खरते (42 साल) ने तड़के इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। कोरोना से युद्ध के दौरान पुलिस विभाग में यह तीसरी मौत है। पहले जूनी इंदौर थाने के टीआई देवेंद्र चंद्रवंशी और फिर उज्जैन के नीलगंगा थाने के टीआई यशवंत पाल का निधन कोरोना संक्रमण के चलते हो चुका है। संयोगितागंज थाना प्रभारी राजीव त्रिपाठी के अनुसार, कुंवर सिंह खरते लॉकडाउन के दौरान लगातार ड्यूटी कर रहे थे। इस दौरान उन्हें हार्टअटैक आया था। 23 अप्रैल को उन्हें निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया जहाँ उनकी सर्जरी की गई थी। शुगर होने से उनकी स्थिति में सुधार नहीं हो रहा था। उनका डायलिसिस भी किया गया, लेकिन किडनी डैमेज होने से उन्हें बचाया नहीं जा सका।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।