• 4 विधायकों ने भाजपा को दिया था झटका और अब बाबुल ने भी छोड़ा साथ, अभिषेक बोले- अभी और बहुत लोग आने वाले हैं

बाबुल सुप्रियों के टीएमसी में शामिल होने पर अभिषेक बनर्जी ने दावा किया कि यह तो महज शुरुआत है। अभी और बहुत लोग आने वाले हैं... बता दें कि आसनसोल से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने शनिवार को भाजपा को बड़ा झटका देते हुए तृणमूल कांग्रेस का दामन लिया। इस अवसर पर अभिषेक बनर्जी भी मौजूद रहे।

कोलकाता। आसनसोल से सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने शनिवार को भाजपा को बड़ा झटका देते हुए तृणमूल कांग्रेस का दामन लिया। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक बनर्जी भी मौजूद रहे। वहीं कहा जा रहा है कि भाजपा के बहुत से नेता टीएमसी के संपर्क में हैं, जो कभी भी पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर सकते हैं। इसी बीच अभिषेक बनर्जी ने बड़ा बयान दिया है। 

इसे भी पढ़ें: टीएमसी के मुखपत्र का दावा, राहुल गांधी नहीं ममता बनर्जी हैं नरेंद्र मोदी का इकलौता विकल्प

क्या बोले अभिषेक बनर्जी ?

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक बाबुल सुप्रियों के टीएमसी में शामिल होने पर अभिषेक बनर्जी ने दावा किया कि यह तो महज शुरुआत है। अभी और बहुत लोग आने वाले हैं...

गायिकी से सियासत का रुख करने वाले बाबुल सुप्रियो ने कुछ वक्त पहले राजनीति छोड़ने का ऐलान किया था। हालांकि भाजपा ने उन्हें लोकसभा पद से इस्तीफा नहीं देने के लिए मना लिया था। माना जा रहा है कि मोदी मंत्रिमंडल में उन्हें जगह नहीं मिलने के बाद से वो नाराज चल रहे थे और ऐसे में ही टीएमसी ने उन्हें पार्टी में लाने का खेला किया।

TMC में शामिल होना चाहते हैं कई नेता !

वहीं कुछ वक्त पहले भाजपा छोड़कर टीएमसी में शामिल हुए मुकुल रॉय ने बड़ा दावा किया था। उन्होंने कहा था कि भाजपा के कई सारे विधायक उनके संपर्क में हैं और वह टीएमसी में शामिल होना चाहते हैं। उन्हें जल्द ही पार्टी में लाया जाएगा। उन्होंने कहा था कि करीब 24 विधायक ममता बनर्जी के साथ काम करने की इच्छा रखते हैं। 

इसे भी पढ़ें: सीबीआई ने बंगाल में चुनाव बाद हिंसा से जुड़े दो और मामलों की जांच अपने हाथ में ली 

4 विधायकों ने चुनाव बाद बदला पाला

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा के नतीजे आने के बाद तीन भाजपा विधायकों ने अबतक पाला बदला है। जिनमें मुकुल रॉय, तन्मय घोष, विश्वजीत दास और सुमन रॉय शामिल हैं। मुकुल रॉय ने तो 4 साल पहले ममता बनर्जी की अगुवाई वाली पार्टी छोड़कर भाजपा का दामन थामा था। लेकिन चुनाव बाद उनकी घर वापसी हो गई।