'370 के समाप्त होने के बाद हालात में कहां आई बेहतरी', उमर अब्दुल्ला बोले- कहीं पर भी कश्मीरी लोग अपने आपको नहीं करते सुरक्षित महसूस

Omar Abdullah
प्रतिरूप फोटो
Twitter Image
नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि दो-ढाई साल पहले कहा गया था कि कश्मीर की सभी परेशानियों की वजह 370 है और इसके हटते ही हालात ठीक हो जाएंगे। आज ढाई साल हो गए, हालात में बेहतरी कहां आई। मुझे नहीं याद कि इससे पहले टारगेट किलिंग का सिलसिला कब हुआ होगा।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने शुक्रवार को एक बार से केंद्र सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि आर्टिकल 370 समाप्त होने के ढाई साल भी हालात में बेहतरी कहां आई ? उन्होंने कहा कि आज कहीं पर भी कश्मीर में लोग अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करते हैं। दरअसल, उमर अब्दुल्ला आर्टिकल 370 के समाप्त हो जाने के बाद से केंद्र सरकार पर लगातार हमलावर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के लोग अपनी पसंद की सरकार बनाने के लिए जल्द चुनाव चाहते हैं : उमर अब्दुल्ला 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, जम्मू-कश्मीर नेशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला ने कहा कि दो-ढाई साल पहले कहा गया था कि कश्मीर की सभी परेशानियों की वजह 370 है और इसके हटते ही हालात ठीक हो जाएंगे। आज ढाई साल हो गए, हालात में बेहतरी कहां आई। मुझे नहीं याद कि इससे पहले टारगेट किलिंग का सिलसिला कब हुआ होगा... लेकिन आज कहीं पर भी कश्मीर में लोग अपने आप को सुरक्षित महसूस नहीं करते। जिन इलाकों से हमने आतंकवाद का खात्मा किया था, उन इलाकों में फिर से आतंकवाद दिख रहा है, तो जाहिर है कि हुकूमत के कहने और करने में काफी फर्क रहा है।

इससे पहले उन्होंने कहा था कि जम्मू-कश्मीर के लोग मौजूदा प्रशासन से पूरी तरह से ऊब चुके हैं और अपनी पसंद की सरकार बनाने के लिए जल्द चुनाव चाहते हैं। हालांकि, चुनावों के बारे में निर्णय भारत के चुनाव आयोग द्वारा लिया जाएगा। उन्होंने कहा था कि मैं कहूंगा कि जम्मू-कश्मीर के लोग चाहते हैं कि चुनाव जल्द से जल्द हो जाएं। वे मौजूदा प्रशासन से तंग आ चुके हैं। वे चिंतित हैं। उनकी कोई नहीं सुन रहा है। 

इसे भी पढ़ें: J&K के बारामूला में शराब की दुकान पर ग्रेनेड हमले में एक की मौत, तीन जख्मी, आतंकियों की तलाश में जुटे सुरक्षाकर्मी 

गौरतलब है कि 5 अगस्त, 2019 को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 के कुछ प्रावधानों को समाप्त कर जम्मू-कश्मीर को दो केंद्रशासित प्रदेशों (जम्मू-कश्मीर और लद्दाख) का स्वरूप प्रदान किया था। दरअसल, आर्टिकल 370 की समाप्ति से पहले अचानक से अमरनाथ यात्रा को रोक दिया गया था और सभी श्रद्धालुओं से अपने घरों को लौटने की अपील की गई थी और फिर घाटी के कुछ नेताओं को नजरबंद भी कर दिया गया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़