संदिग्ध कोविड शिविरों को लेकर वामदलों का कोलकाता में प्रदर्शन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   16:32
संदिग्ध कोविड शिविरों को लेकर वामदलों का कोलकाता में प्रदर्शन

माकपा समर्थित डीवाईएफआई और अन्य युवा संगठनों के सदस्यों ने मांग की कि पुलिस मामले की जांच में तेजी लाए। प्रदर्शनकारियों ने सेक्टर पांच स्थित स्वास्थ्य विभाग के मुख्यालय के बाहर ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की हालांकि बाद में पुलिस इन प्रदर्शनकारियों को वाहन में बैठाकर वहां से ले गई।

कोलकाता। कोलकाता में संदिग्ध कोविड टीकाकरण शिविरों का आयोजन करने वाले फर्जी आईएएस अधिकारी देबांजन देव और तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के बीच कथित संबंध का आरोप लगाते हुए वामपंथी दलों द्वारा समर्थित विभिन्न संगठनों के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को यहां साल्ट लेक में स्वास्थ्य भवन पर प्रदर्शन किया। माकपा समर्थित डीवाईएफआई और अन्य युवा संगठनों के सदस्यों ने मांग की कि पुलिस मामले की जांच में तेजी लाए। प्रदर्शनकारियों ने सेक्टर पांच स्थित स्वास्थ्य विभाग के मुख्यालय के बाहर ममता बनर्जी सरकार के खिलाफ नारेबाजी की हालांकि बाद में पुलिस इन प्रदर्शनकारियों को वाहन में बैठाकर वहां से ले गई।

इसे भी पढ़ें: एसपी से मिले विधायक विशाल नैहरिया रखी अपनी बात, रखा अपना पक्ष

अधिकारियों ने बताया कि प्रदर्शनकारियों और पुलिसकर्मियों के बीच झड़प भी हुई क्योंकि मुख्य प्रवेश द्वार पर अवरोधक लगा हुआ था। उन्होंने बताया कि प्रदर्शनकारियों को ऐहतियाती हिरासत में लिया गया है। वामपंथी कार्यकर्ताओं के एक समूह ने इस मुद्दे को लेकर शहर के मध्य हिस्से में स्थित कोलकाता नगर निगम (केएमसी) के मुख्यालय के निकट भी प्रदर्शन किया।

इसे भी पढ़ें: ऑक्सीजन विवाद : भाजपा ने केजरीवाल के इस्तीफे की मांग के साथ जंतर मंतर पर धरना दिया

प्रदर्शनकारियों ने देव, नगर निकाय के अधिकारियों और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के केएमसी वार्ड समन्वयकों के बीच कथित गठजोड़ का आरोप लगाते हुए सड़क पर जाम लगाने की भी कोशिश की। पुलिस ने हालांकि त्वरित कार्रवाई करते हुए उन्हें वहां से हटा दिया। देव को कुछ दिन पहले केएमसी के संयुक्त आयुक्त होने का ढोंग रचने और संदिग्ध टीकाकरण शिविरों का संचालन करने के आरोप गिरफ्तार किया गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।