वेंकैया नायडू ने संसद और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए पर्याप्त आरक्षण की वकालत की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 20, 2020   18:24
वेंकैया नायडू ने संसद और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए पर्याप्त आरक्षण की वकालत की

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने कहा, ‘‘हमें संसद और सभी राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए पर्याप्त आरक्षण सुनिश्चित करना चाहिए और मैं सभी राजनीतिक दलों से इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर जल्द से जल्द आम सहमति बनाने का आग्रह करता हूं।’’

नयी दिल्ली। उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने संसद और राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए पर्याप्त आरक्षण की वकालत करते हुए बृहस्पतिवार को सभी राजनीतिक दलों से इस मुद्दे पर जल्द सहमति बनाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि अगर महिलाओं को राजनीतिक रूप से सशक्त नहीं किया जायेगा तो देश की प्रगति बाधित होगी। नायडू ने बुजुर्गों की उपेक्षा और दुर्व्यवहार की खबरों पर भी चिंता व्यक्त करते हुए कहा, ‘‘यह पूरी तरह से अस्वीकार्य प्रवृत्ति’’ है जिसकी जांच की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह बच्चों का परम कर्तव्य है कि वे अपने परिवारों के वृद्ध सदस्यों की देखभाल करें। 

इसे भी पढ़ें: ओड़िशा के BJD विधायक अपने खेत की स्वयं करते हैं जुताई, उपराष्ट्रपति और मुख्यमंत्री ने की तारीफ 

उन्होंने कहा, ‘‘हमें संसद और सभी राज्य विधानसभाओं में महिलाओं के लिए पर्याप्त आरक्षण सुनिश्चित करना चाहिए और मैं सभी राजनीतिक दलों से इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर जल्द से जल्द आम सहमति बनाने का आग्रह करता हूं।’’ एक अधिकारिक बयान के अनुसार उपराष्ट्रपति ने कहा कि यह ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ है कि यह प्रस्ताव लंबे समय से लंबित है। उन्होंने ‘भारत में जन्म के समय लिंगानुपात की स्थिति’, और ‘भारत में बुजुर्गों की जनसंख्या’’ पर रिपोर्ट जारी करने के दौरान ये टिप्पणियां की। 

इसे भी पढ़ें: उपराष्ट्रपति ने पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को उनकी जयंती पर श्रद्धांजलि अर्पित की 

नायडू ने ऑनलाइन कार्यक्रम के दौरान बालिकाओं के लिए मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा सुनिश्चित करते हुए कन्या भ्रूण हत्या और दहेज पर प्रतिबंध लगाने वाले कानूनों को सख्ती से लागू करने का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि महिलाओं को संपत्ति में एक समान हिस्सा दिया जाना चाहिए ताकि वे आर्थिक रूप से सशक्त हों। बयान में कहा गया है कि नायडू ने स्कूलों में नैतिक शिक्षा का भी आह्वान किया ताकि बच्चे बड़े होकर जिम्मेदार और संवेदनशील नागरिक बनें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...