NDRF में शामिल होंगी महिला कर्मी, SN प्रधान बोले- पहले नहीं थी बैरक की सुविधा

ndrf-set-to-induct-women-personnel-in-new-battalions
एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने कहा कि इससे पहले, हमारे पास महिलाओं के लिए बैरक और अन्य सुविधाएं नहीं थीं।

कोलकाता। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) आगामी एक साल में अपनी नई बटालियनों में महिलाओं को शामिल करेगा। केंद्र सरकार ने देश में एनडीआरएफ बटालियनों में महिला दलों को शामिल करने का प्रस्ताव 2018 में रखा था। एनडीआरएफ के महानिदेशक एस एन प्रधान ने कहा, ‘‘इससे पहले, हमारे पास महिलाओं के लिए बैरक और अन्य सुविधाएं नहीं थीं।... लेकिन अब हम उन्हें शामिल करने की स्थिति में हैं और हमने महिला ऑपरेटरों को बुलाने की प्रक्रिया पहले ही आरंभ कर दी है।’’

इसे भी पढ़ें: चंबल ने चंबल में मचाई तबाही, मुरैना और भिण्ड जिले के डेढ़ सौ गांवों में बाढ़ की स्थिति

प्रधान यहां से 55 किलोमीटर दूर हरिनघाटा में एनडीआरएफ मुख्यालय परिसर की दूसरे बटालियन का उद्घाटन के लिए हाल में पश्चिम बंगाल में थे। उन्होंने कहा, ‘‘हमने हमारी सरकार से अनुरोध किया था कि कुछ महिला कर्मियों को नई चार बटालियनों के लिए भेजा जाना चाहिए।...यह एक साल के भीतर होना चाहिए।’’ एनडीआरएफ की 12 बटालियनों के अलावा चार नई बटालियन होंगी और उनका आधार जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में होगा।

इसे भी पढ़ें: गोदावरी नदी में नाव पलटने से 12 लोगों की मौत, 25 लापता

एनडीआरएफ एक विशेष बल है जिसका गठन 2006 में किया गया था। यह बल प्राकृतिक आपदा और मानवजनित हादसों अथवा संकटपूर्ण हालात के दौरान राहत एवं बचाव कार्यों में अहम भूमिका निभाता है। 

तू देखता किधर है हमारा पूरा ध्यान PoK की तरफ है, पूरा मामला जानने के लिए देखें वीडियो:

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़