ग्वालियर में महिला अपराध रोकने अब चलेगी निर्भया मोबाइल वैन

ग्वालियर में महिला अपराध रोकने अब चलेगी निर्भया मोबाइल वैन

ग्वालियर एसपी ने हरी झंडी दिखाकर इस मोबाइल वाहन को रवाना किया। निर्भया मोबाइल के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है जिसके तहत 7049110252 पर कॉल करने पर तत्काल छात्राओं युवतियों और महिलाओं को मदद उपलब्ध कराते हुए एक्शन लिया जाएगा।

भोपाल। मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले की पुलिस ने एक नई पहल शुरू करने जा रही है। स्कूल-कॉलेज और कोचिंग सेंटरों के आसपास लड़कियों के साथ छेड़छाड़ करने वालो की अब खेर नही होगी। इनसे बचाने पुलिस द्वारा निर्भया मोबाइल चालई जाएंगी। पुलिस प्रशासन द्वारा महिला संबंधी अपराधों की रोकथाम और तत्काल सहायता के लिए निर्भया मोबाइल का शुभारंभ किया गया।

इसे भी पढ़ें:विदेश यात्रा कर छिंदवाड़ा पहुचीं युवती में ओमिक्रोन के लक्षण मिले, जिला अस्पताल में करवाया भर्ती 

आपको बता दें कि ग्वालियर एसपी ने हरी झंडी दिखाकर इस मोबाइल वाहन को रवाना किया। निर्भया मोबाइल के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है जिसके तहत 7049110252 पर कॉल करने पर तत्काल छात्राओं युवतियों और महिलाओं को मदद उपलब्ध कराते हुए एक्शन लिया जाएगा।

दरअसल शहर के स्कूल, कॉलेज और कोचिंग संस्थानों के आसपास छात्राओं की सुरक्षा के लिए ग्वालियर पुलिस ने नई पहल की है। निर्भया मोबाइल में महिला पुलिसकर्मी तैनात रहेंगी और शैक्षणिक संस्थानों के आसपास पेट्रोलिंग करेंगी। जिससे छात्राएं सीधे संपर्क कर अपनी शिकायत कर सके।  फिलहाल पहले चरण में एक निर्भया मोबाइल वैन चलाई गई है।

इसे भी पढ़ें:नहीं गंवाई कोरोना में किसी ने अपनी जान, गांव के लोगों ने करवाया अपना मुंडन 

वहीं निर्भया मोबाइल के लिए एक जिप्सी तैयार कराई गई, जिसका रंग गुलाबी रखा गया है। जिसमें महिला पुलिसकर्मी शैक्षणिक संस्थानों के आसपास पेट्रोलिंग करेंगी। जहां कोचिंग संस्थान अधिक हैं, वहां निर्भया मोबाइल में तैनात महिला पुलिसकर्मी अपना नंबर भी छात्राओं को देंगी। जिससे छात्राएं जरूरत पड़ने पर सीधे शिकायत कर सके। और निर्भया मोबाइल वैन में तैनात पुलिसकर्मी तुरंत कार्रवाही कर सकें।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।