'हमारी संस्कृति को कोई नहीं मिटा सकता', विक्टोरिया मेमोरियल में अमित शाह बोले- शक्ति की पूजा है दुर्गा पूजा

Amit Shah
प्रतिरूप फोटो
Twitter
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में कहा कि हमारा देश सदियों से एक सांस्कृतिक नदी के रूप में बहता रहा है। हमारी संस्कृति को कोई मिटा नहीं सकता है। आज पूरा विश्व हमारी संस्कृति का सम्मान करता है। आज विश्व में महिला सशक्तिकरण की बात होती है।

कोलकाता। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में एक कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर पूरा देश मना रहा है। दिसंबर 2021 में बंगाल की दुर्गापूजा को यूनेस्को ने अमूर्त संस्कृति विरासत में शामिल किया है, यह न सिर्फ बंगाल बल्कि पूरे देश के लिए गौरव का विषय है। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में अमित शाह ने तीन बीघा गलियारे का दौरा किया, बीएसएफ के जवानों से मिले 

उन्होंने कहा कि हमारा देश सदियों से एक सांस्कृतिक नदी के रूप में बहता रहा है। हमारी संस्कृति को कोई मिटा नहीं सकता है। आज पूरा विश्व हमारी संस्कृति का सम्मान करता है। आज विश्व में महिला सशक्तिकरण की बात होती है। हमारे पुराणों में, उपनिषदों में लिखा गया है, जहां नारी की पूजा होती है, वहां देवताओं का वास होता है, वहीं सुख-समृद्धि होती है। नारी सशक्तिकरण की बात हजारों वर्षों बाद पश्चिम से होती हुई हमारे ही पास आई है।

गृह मंत्री ने कहा कि अब भारत में यूनेस्को की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत की संख्या 14 हो गई है। 2017 में कुंभ मेले को शामिल किया गया, 2016 में नवरोज को शामिल किया गया था, 2015 में योग को इसमें शामिल किया गया था और अब दुर्गा पूजा को शामिल किया गया है। 

इसे भी पढ़ें: मृतक भाजपा कार्यकर्ता के घर पहुंचे अमित शाह, बोले- बंगाल में राजनीतिक हत्या चरम पर, CBI जांच जरूरी 

इसी बीच उन्होंने कहा कि आजादी के 75 साल की यात्रा में भारत ने अनेक सिद्धियों को प्राप्त किया है। चाहे शिक्षा का क्षेत्र हो, या अंतरिक्ष का। चाहे रक्षा का क्षेत्र हो या कला का क्षेत्र, अनेक क्षेत्रों में सामूहिक प्रयास के कारण हमने कई उपलब्धियों को प्राप्त किया है। इन उपलब्धियों को युवाओं के सामने रखना और उन उपलब्धियों पर गर्व करने का हमने लक्ष्य रखा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़