रेलवे राष्ट्र और लोगों की संपत्ति, निजीकरण का सवाल ही नहीं: पीयूष गोयल

 Piyush Goyal
अंकित सिंह । Mar 30, 2021 5:44PM
पीयूष गोयल ने कहा कि हमारे ट्रैकमैन, रखरखाव और सिग्नलिंग लोगों के प्रयासों के कारण ही पिछले 2 वर्षों में एक भी मौत नहीं हुई है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे रेलवे के कर्मचारियों ने दिन रात एक करके लॉकडाउन के बीच में भी जनता की सेवा की। उन्होंने देशभर में किसानों के लिए खाद पहुंचाया, गरीबों के लिए अनाज पहुंचाया, बिजली घरों को कोयला पहुंचाया, सबके लिए दवाइयां पहुंचाई।

रेल मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता पीयूष गोयल ने आज एक बार फिर से कहा कि भारतीय रेलवे राष्ट्र की संपत्ति है, लोगों की संपत्ति है और इसे कोई नहीं छू सकता। उन्होंने दोहराया कि रेलवे का कभी निजीकरण नहीं किया जाएगा। उन्होंने लोगों से कहा कि विपक्ष के प्रचार में मत फंसिए। यह आपकी संपत्ति है और आपकी बनी रहेगी। रेल मंत्री ने पश्चिम बंगाल के खड़गपुर में यह बाते कही।

पीयूष गोयल ने कहा कि हमारे ट्रैकमैन, रखरखाव और सिग्नलिंग लोगों के प्रयासों के कारण ही पिछले 2 वर्षों में एक भी मौत नहीं हुई है। उन्होंने आगे कहा कि हमारे रेलवे के कर्मचारियों ने दिन रात एक करके लॉकडाउन के बीच में भी जनता की सेवा की। उन्होंने देशभर में किसानों के लिए खाद पहुंचाया, गरीबों के लिए अनाज पहुंचाया, बिजली घरों को कोयला पहुंचाया, सबके लिए दवाइयां पहुंचाई।  आप सब इस बात पर गर्व कर सकते हैं कि कोविड के बावजूद 2020-21 में हम इतिहास रचेंगे। रेलवे के 168 साल के अपने इतिहास में माल गाड़ी ने सबसे ज्यादा माल अगर ढोया है, तो इस कोविड के साल में ढोया है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़