अब जमकर करिए कसरत, दिल्ली में खुल गये हैं जिम-योग केंद्र

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 28, 2021   16:28
अब जमकर करिए कसरत,  दिल्ली में खुल गये हैं जिम-योग केंद्र

राष्ट्रीय राजधानी में तीन महीने के अंतराल के बाद जिम और योग केंद्रों के खुलने के उपरांत यहां जाने के लिए उत्सुक लोगों की प्रतीक्षा अब समाप्त हो गयी है। कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए ये केंद्र बंद कर दिये गये थे।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में तीन महीने के अंतराल के बाद जिम और योग केंद्रों के खुलने के उपरांत यहां जाने के लिए उत्सुक लोगों की प्रतीक्षा अब समाप्त हो गयी है। कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार की रोकथाम के लिए ये केंद्र बंद कर दिये गये थे। दिल्ली सरकार ने शनिवार को उन्हें 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खुलने की अनुमति दी। जिम-मालिकों एवं प्रशिक्षकों ने कोविड दिशानिर्देशों का पालन करते हुए समय समय पर इन प्रतिष्ठानों को संक्रमण मुक्त करने और इनकी स्थापित क्षमता से बस 50 प्रतिशत लोग ही इसमें आ पाये, इसके लिए समुचित कार्यक्रम तैयार किया है।

इसे भी पढ़ें: मजदूर की 12वीं मंजिल से गिर कर मौत, गैर-इरादतन हत्या का मामला दर्ज

दिल्ली सरकार ने बैंक्वेट हॉल, विवाह घरों और होटलों में 50 लोगों की उपस्थिति के साथ शादी आयोजन की भी अनुमति दी है। शहर में कोविड-19 की स्थिति में सुधार आने के बाद चरणबद्ध तरीके से अनलॉक प्रक्रिया शुरू की गयी थी। दिल्ली जिम एसोसिएशन के उपाध्यक्ष चिराग सेठी ने कहा कि इस फिटनेस उद्योग ने दिशानिर्देशों के अनुपालन के साथ खुलने का अवसर दिये जाने का स्वागत किया है।

इसे भी पढ़ें: एसपी से मिले विधायक विशाल नैहरिया रखी अपनी बात, रखा अपना पक्ष

मालवीय नगर में एनीटाइम फिटनेस के मालिक सेठी ने कहा कि वह जिम के सदस्यों को सुबह छह से लेकर रात नौ बजे तक 16 पारियों में कभी भी 50-60 लोगों की संख्या में आने की अनुमति दे रहे हैं। सेठी ने पीटीआई-से कहा, ‘‘ लोग (जिम में) वापस आने को लेकर रोमांचित हैं क्योंकि उन्होंने महसूस किया है कि कोविड-19 से लड़ने के लिए स्वस्थ रहना जरूरी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।