बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 403 हुई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 30, 2020   07:25
बिहार में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 403 हुई

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार पश्चिम चंपारण में पांच पुरूषों में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। दरभंगा में चार, पटना एवं रोहतास में तीन-तीन, बेगूसराय एवं भोजपुर में दो-दो तथा वैशाली, मधेपुरा, औरंगाबाद एवं सीतामढ़ी में एक-एक मामला सामने आया।

पटना। बिहार में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 37 नये मामले सामने आने के बाद प्रदेश में संक्रमण के मामले बढ़कर 403 हो गये। स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बुधवार को बताया कि बक्सर में 14, पश्चिम चंपारण में पांच, दरभंगा में चार, पटना एवं रोहतास में तीन-तीन, बेगूसराय एवं भोजपुर में दो-दो तथा वैशाली, मधेपुरा, औरंगाबाद एवं सीतामढ़ी में एक-एक मामला सामने आया। उन्होंने बताया कि बक्सर जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के जो 14 मामले सामने आए हैं उनमें सात पुरुष और सात महिलाएं शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: प्रवासी मजदूरों की वापसी को लेकर मुख्यमंत्रियों से बातचीत कर रहा है महाराष्ट्र: अनिल देशमुख

संजय ने बताया कि पश्चिम चंपारण में पांच पुरूषों में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि दरभंगा में कोरोना वायरस संक्रमण के चार नए मामले सामने आए हैं, उनमें एक पुरुष (53) तथा तीन महिलाएं शामिल हैं। संजय ने बताया कि पटना में तीन महिलाएं, रोहतास में दो पुरुष और एक महिला, बेगूसराय में दो पुरुष और वैशाली में एक महिला , मधेपुरा में एक महिला , औरंगाबाद में एक महिला एवं सीतामढ़ी में एक महिला में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण की पुष्टि हुई है। 

इसे भी पढ़ें: RJD पर बरसे जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन, उपवास को बताया मानवता विरोधी

गौरतलब है कि पटना एम्स में कतर से लौटे मुंगेर जिला निवासी एक मरीज की गत 21 मार्च को तथा वैशाली जिला निवासी एक मरीज की 17 अप्रैल को मौत हो गयी थी। बिहार के कुल 38 जिलों में से 29 जिलों में कोविड-19 के मामले सामने आए हैं। बिहार में अब तक 21,180 नमूनों की जांच की जा चुकी है और 65 मरीज स्वस्थ हो गए हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।