अमरीन भट के परिजनों से मिलीं महबूबा मुफ्ती, बोलीं- कश्मीरियों का खून बहाना रोज का मामूल बन गया

Mehbooba Mufti
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
अनुराग गुप्ता । May 27, 2022 12:56PM
पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में बेगुनाहों का खासकर कश्मीरियों का खून बहाना रोज का मामूल बन गया है और जो सरकार है वह ज्यों की त्यों है। उनकी जो नीति है वो दबाव की नीति है जिसका नतीजा है कि जम्मू-कश्मीर में हालात बेहतर होने की जगह और बिगड़ रहे हैं।

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को केंद्र की भाजपा सरकार की जमकर आलोचना की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की नीतियों की वजह से कश्मीर में हालात खराब हैं। दरअसल, महबूबा मुफ्ती ने आतंकवादी हमले में मारी गई टीवी अभिनेत्री अमरीन भट के परिजनों से मुलाकात की। 

इसे भी पढ़ें: महबूबा मुफ्ती ने फिर अलापा 'पाकिस्तान' राग, बोलीं- पड़ोसी मुल्क का न्यायतंत्र हमसे बेहतर ! 

केंद्र पर बरसीं महबूबा मुफ्ती

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में बेगुनाहों का खासकर कश्मीरियों का खून बहाना रोज का मामूल बन गया है और जो सरकार है वह ज्यों की त्यों है। उनकी जो नीति है वो दबाव की नीति है जिसका नतीजा है कि जम्मू-कश्मीर में हालात बेहतर होने की जगह और बिगड़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि वे पूरी दुनिया में चिल्लाते फिरते हैं कि जम्मू-कश्मीर में सब कुछ ठीक है, यहां कुछ ठीक-ठाक नहीं हुआ है। जो भाजपा सरकार है वो इसे मजहब के आधार पर देख रही है कि मुस्लिम बहुमत राज्य है इसलिए लोग मरते हैं तो मरने दो। 

इसे भी पढ़ें: 'अंग्रेजों ने हिंदुओं को मुसलमानों के खिलाफ खड़ा किया', महबूबा बोलीं- आज भाजपा भी यही कर रही 

सुरक्षाबलों ने लिया बदला 

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले के चादूरा इलाके में आतंकवादियों ने बुधवार को एक टीवी अभिनेत्री अमरीन भट के घर में घुसकर उन पर गोलियां दागी थी। इस गोलीबारी में अमरीन भट का भतीजा भी घायल हो गया था। हालांकि सुरक्षाबलों ने 48 घंटे के भीतर अमरीन भट की हत्या का बदला ले लिया।

अमरीन भट की हत्या में स्थानीय आतंकवादी शामिल थे, जिन्होंने हाल ही में लश्कर-ए-तैयबा ज्वाइन किया था। मारे गए दोनों आतंकवादियों की पहचान मुश्ताक भट और फरहान हबीब के तौर पर हुई है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़