NCC-NSS कैडेट्स को पीएम मोदी ने दिया सफलता का मंत्र, बोले- विकसित भारत के सबसे बड़े लाभार्थी युवा होंगे

PM Modi
ANI
अभिनय आकाश । Jan 25, 2023 5:36PM
पीएम मोदी ने कहा कि भारत की युवा पीढ़ी देश की जिम्मेदारियों के लिए तैयार हैं और अपना दायित्व निभाने के लिए तत्पर हैं। एनसीसी और एनएसएस ऐसे संगठन हैं जो युवा पीढ़ी को राष्ट्रीय लक्ष्यों और सरोकारों से जोड़ते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एनसीसी कैडेटों, एनएसएस स्वयंसेवकों, जनजातीय अतिथियों और झांकी कलाकारों के साथ बातचीत की। पीएम मोदी ने कहा कि भारत की युवा पीढ़ी देश की जिम्मेदारियों के लिए तैयार हैं और अपना दायित्व निभाने के लिए तत्पर हैं। एनसीसी और एनएसएस ऐसे संगठन हैं जो युवा पीढ़ी को राष्ट्रीय लक्ष्यों और सरोकारों से जोड़ते हैं। कोरोना काल में एनसीसी और एनएसएस के वॉलंटियर्स ने देश के सामर्थ्य को बढ़ाया है। दूसरा युवा देश की आकांक्षाओं और सपनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। विकसित भारत के सबसे बड़े लाभार्थी भी युवा हैं। देश के निर्माण की सबसे बड़ी जिम्मेदारी भी युवाओं के कंधे पर है।

इसे भी पढ़ें: BBC Documentary: अनिल एंटनी के इस्तीफे पर शशि थरूर ने उठाए सवाल, पूछा- एक डॉक्यूमेंट्री राष्ट्र की संप्रभुता को कैसे प्रभावित कर सकती है?

पीएम मोदी ने कहा कि बीते कुछ हफ्तों में मुझे युवाओं से मिलने का मौका मिला। युवाओं से संवाद 2 कारणों से मेरे लिए महत्वपूर्ण होता एक तो इसलिए कि युवाओं में ऊर्जा होती है, ताजगी होती है जुनून होता है और नयापन होता है। युवाओं के माध्यम से सारी सकारात्मकता मुझे लगातार प्रेरित करती रहती है।

इसे भी पढ़ें: मिस्र के राष्ट्रपति का भारत में स्वागत, अब्देल फतह अल-सिसी से मुलाकात कर बोले PM मोदी, आतंकवाद को लेकर दोनों देश चिंतित

 सभा को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने कहा, "'युवा संवाद' मेरे लिए दो कारकों के लिए विशेष महत्व रखता है - 1) युवाओं में ऊर्जा, उत्साह, जोश और नवीनता है; आपके माध्यम से, सकारात्मकता मुझे दिन-रात मेहनत करने के लिए प्रेरित करती है; 2 ) आजादी के इस अमृत काल में आप सभी देश की आकांक्षाओं और सपनों का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्होंने कहा, "आप विकसित भारत के सबसे बड़े लाभार्थी बनने जा रहे हैं और इसे बनाने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी आपके कंधों पर है। प्रधान मंत्री ने कहा कि भारत के युवाओं को "अनदेखी संभावनाओं का दोहन करना होगा, अछूते क्षेत्रों का पता लगाना होगा और अकल्पनीय समाधानों की तलाश करनी होगी।

अन्य न्यूज़