ग्वालियर में प्रॉपर्टी डीलर ने विधायक के घर के बाहर खाया जहर

ग्वालियर में प्रॉपर्टी डीलर ने विधायक के घर के बाहर खाया जहर

पीड़ित की पत्नी ने प्रशासन से न्याय की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि अगर कुछ भी अनहोनी हुई तो वह विधायक के घर के बाहर आत्महत्या कर लेगी। वहीं तहसीलदार शरद पाठक सुबह अस्पताल पहुंचे और प्रापर्टी डीलर के बयान दर्ज किए।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुरैना जिले के सुमावाली विधायक अजब सिंह कुशवाहा के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराने वाले प्रापर्टी डीलर ने विधायक के घर के बाहर जहर खा लिया।पीड़ित को ग्वालियर के जयरोग्य अस्पताल में भर्ती कराया गया है और उसकी हालत स्थिर बताई जा रही है।

इसे भी पढ़ें:खाद की कमी को लेकर किसानों ने दिया रेलवे ट्रैक पर धरना, लगाए सरकार के खिलाफ नारे 

दरअसल पीड़ित की पत्नी ने प्रशासन से न्याय की मांग करते हुए चेतावनी दी है कि अगर कुछ भी अनहोनी हुई तो वह विधायक के घर के बाहर आत्महत्या कर लेगी। वहीं तहसीलदार शरद पाठक सुबह अस्पताल पहुंचे और प्रापर्टी डीलर के बयान दर्ज किए। हालांकि मामला विधायक का है इसलिए तहसीलदार ने विधायक का नाम लेने से परहेज किया।

आपको बता दें कि डीडी नगर के प्रॉपर्टी डीलर सीताराम शर्मा ने ग्वालियर के महाराजपुरा क्षेत्र स्थित ग्राम विक्रमपुर और सोहनपुर में सरकारी जमीन पर साजिश रचने का आरोप लगाते हुए कांग्रेस विधायक अजब सिंह कुशवाहा के खिलाफ धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया था।

इसे भी पढ़ें:पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने लोकायुक्त में दर्ज करवाई बीजेपी के नेताओं के खिलाफ शिकायत, लगाए गंभीर आरोप 

सरकारी जमीन पर प्लॉटिंग का मामला सामने आने के बाद सीताराम से प्लॉट लेने वाले लोगों ने अपना पैसा वापस मांगना शुरू कर दिया। सीताराम सोमवार को विधायक के आवास पर पैसे मांगने पहुंचे। हालांकि तमाम कोशिशों के बाद सीताराम ने सल्फास की गोलियां खा लीं।

पीड़िता की पत्नी ने अपने बयान में कहा कि विधायक ने उनके पति से 1 करोड़ 86 लाख रुपये ठगे हैं। जिसके बाद वह डिप्रेशन में चले गए। प्रॉपर्टी डीलर के दोस्त रवींद्र भदौरिया ने पुलिस पर राजनीतिक दबाव के चलते कार्रवाई में देरी का गंभीर आरोप लगाया है। रवींद्र भदौरिया ने कहा कि यदि समय पर आवश्यक कार्रवाई की जाती तो यह घटना टल सकती थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।