राहुल और प्रियंका गांधी ने प्रवासी कामगारों को राहत देने की पैरवी की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 23, 2020   14:10
राहुल और प्रियंका गांधी ने प्रवासी कामगारों को राहत देने की पैरवी की

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के मुताबिक कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में राहुल गांधी ने एक बार फिर दोहराया कि लॉकडाउन एक ‘पॉज बटन’ की तरह है और कोरोना मुक्त इलाकों में कारोबारी गतिविधयों की शुरुआत करने की जरूरत है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न हिस्सों के फंसे प्रवासी कामगारों को राहत प्रदान करने की पैरवी करते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार को इस काम को पहली प्राथमिकता देनी चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के मुताबिक कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से हुई बैठक में राहुल गांधी ने एक बार फिर दोहराया कि लॉकडाउन एक ‘पॉज बटन’ की तरह है और कोरोना मुक्त इलाकों में कारोबारी गतिविधयों की शुरुआत करने की जरूरत है। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने केंद्र से की वित्तीय सहायता की मांग 

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, ‘‘प्रवासी कामगारों के मुद्दे को पहली प्राथमिकता के तौर पर हल करने की जरूरत है।’’ प्रियंका गांधी ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस से लड़ाई में करूणा महत्वपूर्ण है और पीड़ित के प्रति शत्रुता का भाव नहीं होना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि समय बीतने के साथ ही हमें जरूरी जांच और ऐहतियात बरतने के बाद प्रवासी कामगारों को घर लौटने की इजाजत देनी होगी। बैठक में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल ने कहा, ‘‘कोरोना के खिलाफ लड़ने के लिए हालात संतोषजनक नहीं हैं। भारत सरकार को राज्यों के सामने पैदा हुए वित्तीय संकट और स्वास्थ्यकर्मियों के सामने पेश आ रही चुनौतियों का समाधान करना होगा।’’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम, एके एंटनी और अधीर रंजन चौधरी ने भी इस बैठक में अपने विचार रखे।

इसे भी देखें : Sonia ने कहा BJP फैला रही नफरत का वायरस, कांग्रेसी CMs ने कहा- Modi हमें मदद नहीं दे रहे 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...