Breaking: लंदन में बोले राहुल गांधी- भारत अच्छी स्थिति में नहीं, भाजपा ने चारों तरफ छिड़क रखा है केरोसिन

rahul gandhi landon
ANI
अंकित सिंह । May 21, 2022 9:54AM
राहुल ने तो यह भी कह दिया कि भारत अच्छी स्थिति में नहीं है। भाजपा ने पूरे देश में किरोसिन फैला दिया है। आपको एक चिंगारी चाहिए और हम बड़ी मुसीबत में पड़ जाएंगे। मुझे लगता है कि यह विपक्ष की भी जिम्मेदारी है, कांग्रेस - जो लोगों, समुदायों, राज्यों और धर्मों को एक साथ लाती है। हमें इस तापमान को ठंडा करने की जरूरत है क्योंकि अगर यह तापमान ठंडा नहीं हुआ तो चीजें गलत हो सकती हैं।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी लंदन में हैं जहां सभी कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के आइडियाज फॉर इंडिया सम्मेलन में हिस्सा लिया। इस दौरान राहुल गांधी ने केंद्र के मोदी सरकार और भाजपा पर जमकर निशाना साधा है। इसके साथ ही दावा किया कि कांग्रेस पहले जैसा भारत चाहती हैं और इसके लिए हम लगातार लड़ाई लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा लगातार हमारी आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है। भाजपा सरकार पर हमला करते हुए राहुल गांधी ने दावा किया कि देश में रोजगार कम हुए हैं और वह ध्रुवीकरण की वजह से सत्ता बनी हुई है। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन में जो हो रहा है कुछ वैसी ही स्थिति लद्दाख में है : राहुल गांधी

भाजपा पर हमला

इतना ही नहीं, राहुल ने तो यह भी कह दिया कि भारत अच्छी स्थिति में नहीं है। भाजपा ने पूरे देश में किरोसिन फैला दिया है। आपको एक चिंगारी चाहिए और हम बड़ी मुसीबत में पड़ जाएंगे। मुझे लगता है कि यह विपक्ष की भी जिम्मेदारी है, कांग्रेस - जो लोगों, समुदायों, राज्यों और धर्मों को एक साथ लाती है। हमें इस तापमान को ठंडा करने की जरूरत है क्योंकि अगर यह तापमान ठंडा नहीं हुआ तो चीजें गलत हो सकती हैं। अपने बयान में राहुल गांधी ने कहा कि हमारे पास एक ऐसा भारत है जहां अलग-अलग विचार रखे जा सकते हैं पर हम बातचीत कर सकते हैं। लेकिन आज हमें बांटने की कोशिश की जा रही है। राहुल गांधी ने दावा किया कि देश को एक भूगोल मानते हैं और सोने की चिड़िया होने का दावा करती है जिसका लाभ चंद लोगों में बाटा जाता है। जबकि हम चाहते हैं कि सभी को एक समान लाभ पहुंचे। भाजपा और मोदी सरकार पर हमला जारी रखते हुए कहा कि प्रधानमंत्री का रवैया होना चाहिए कि 'मैं सुनना चाहता हूं' लेकिन वहां सब कुछ उनके सामने हो जाता है लेकिन हमारे प्रधानमंत्री कुछ नहीं सुनते हैं। 

इसे भी पढ़ें: राहुल पर 'चिकन सैंडविच' वाली टिप्पणी को लेकर हार्दिक पटेल पर बरसे जिग्नेश मेवानी, बोले- मुझे इसकी उम्मीद नहीं थी...

ऐसे होगा सुधार

भाजपा चुनाव क्यों जीत रही है के सवाल पर राहुल ने कहा कि ध्रुवीकरण और मीडिया का कुल प्रभुत्व है। साथ ही, आरएसएस ने एक ऐसी संरचना का निर्माण किया है जो बड़े पैमाने पर लोगों के बीच पहुंच चुका है। विपक्षी दलों और कांग्रेस को इस तरह के ढांचे का निर्माण करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि हमें और अधिक आक्रामक रूप से उन 60-70% लोगों के पास जाने की जरूरत है, जो भाजपा को वोट नहीं देते हैं और हमें इसे एक साथ करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि भारत में लोकतंत्र सबकी भलाई के लिए है तथा भारतीय ही एक मात्र ऐसे लोग हैं जिन्होंने लोकतंत्र को इस बेमिसाल तरीक़े से चलाया है। इस कार्यक्रम में राजद के तेजस्वी यादव, मनोज झा, तृणमूल कांग्रेस की महुआ मोइत्रा और माकपा के सीताराम येचुरी भी शामिल हुए। 

इसे भी पढ़ें: चिंतन तो हो गया पर शिथिल पड़ती जा रही कांग्रेस में चेतना नहीं आ पाई

चीन को लेकर निशाना

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने दावा किया कि रूस जो यूक्रेन में कर रहा है कुछ वैसी ही स्थिति चीन ने लद्दाख में पैदा की है, लेकिन नरेंद्र मोदी सरकार इस बारे में बात तक नहीं करना चाहती। राहुल गांधी ने कहा, रूसी यूक्रेन से कहते हैं कि हम आपकी क्षेत्रीय अखंडता को नहीं स्वीकारते हैं, हम यह मानने से इनकार करते हैं कि दो जिले तुम्हारे हैं..हम उन दो जिलों में हमले करने जा रहे हैं ताकि यह सुनिश्चित कर सकें कि तुम उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) से गठजोड़ तोड़ दो। गांधी ने कहा, पुतिन (रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन) यही कर रहे हैं। पुतिन कह रहे हैं कि मैं इसके लिए तैयार नहीं हूं कि तुम अमेरिका के साथ गठजोड़ करो... मैं तुम पर हमला करूंगा। कांग्रेस नेता ने दावा किया, यूक्रेन में जो हो रहा है और लद्दाख में जो हो रहा है, उनकी तुलना करिये। कृपया आप देखिए, दोनों जगह समान स्थिति है। गांधी के अनुसार, “चीन की सेनायें लद्दाख़ और डोकलाम दोनों जगह हैं। चीन कह रहा है इन इलाक़ों से आपका (भारत) संबंध तो है लेकिन हम (चीन) नहीं मानते कि यह भूभाग आपका है।” उन्होंने कहा “मेरी समस्या यह है कि वह (भारत सरकार) इस पर कोई बात नहीं करना चाहती।”

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़