राहुल ‘झूठों के सरदार’, असम में निरोध केंद्र कांग्रेस शासन के दौरान बने थे: भाजपा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 26, 2019   19:32
राहुल ‘झूठों के सरदार’, असम में निरोध केंद्र कांग्रेस शासन के दौरान बने थे: भाजपा

भाजपा ने राहुल गांधी पर हमला बोलते हुए कहा कि असम में तीन निरोध केंद्र तब बने थे जब उनकी पार्टी केंद्र और राज्य दोनों ही जगह सत्ता में थी।’’ संबित पात्रा ने दावा किया कि 2012 को असम की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने विदेशियों के मुद्दे पर श्वेतपत्र जारी किया था।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर झूठ बोलने का आरोप लगाने के लिए भाजपा ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर बृहस्पतिवार को पलटवार करते हुए उन्हें ‘‘झूठों का सरदार’’ कहा। भाजपा ने कहा कि असम में निरोध केंद्र (डिटेंशन सेंटर) तब बने थे जब केंद्र और राज्य दोनों ही जगह कांग्रेस सत्ता में थी। इससे पहले दिन में कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने एक ट्वीट करके आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी असम में निरोध केंद्र के मुद्दे पर देश से झूठ बोल रहे हैं। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने आरोप लगाते हुए कहा कि राफेल मुद्दे पर उच्चतम न्यायालय से माफी मांगने के बाद राहुल गांधी अब निरोध केंद्रों के मुद्दे पर झूठ फैला रहे हैं।  उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने केवल यह कहा कि ऐसा कोई निरोध केंद्र नहीं है जहां भारत के मुस्लिमों को एनआरसी के बाद रखा जाएगा। पात्रा ने यहां संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए 2011 में तत्कालीन कांग्रेस नीत संप्रग सरकार की ओर से जारी आधिकारिक बयान और 2012 में पार्टी नीत सरकार द्वारा विदेशियों के मुद्दे पर जारी श्वेतपत्र दिखाया और दावा किया कि इन दस्तावेजों के अनुसार राज्य में निरोध केंद्र स्थापित किये गए।

इसे भी पढ़ें: संबित पात्रा ने राहुल को बताया झूठों का सरदार, बोले- कांग्रेस सरकार ने बनवाए थे हिरासत केंद्र

उन्होंने कहा, ‘‘राहुल गांधी झूठों के सरदार हैं। असम में तीन निरोध केंद्र तब बने थे जब उनकी पार्टी केंद्र और राज्य दोनों ही जगह सत्ता में थी।’’ पात्रा ने दावा किया कि 20 अक्टूबर 2012 को असम की तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने विदेशियों के मुद्दे पर श्वेतपत्र जारी किया था और उसके पृष्ठ संख्या 38 पर यह लिखा है कि केंद्र सरकार ने असम सरकार को निरोध केंद्र स्थापित करने का निर्देश दिया है। श्वेतपत्र में उपलब्ध जानकारी के अनुसार तत्कालीन कांग्रेस सरकार द्वारा गोलपाड़ा, कोकराझार और सिलचर में एक एक निरोध केंद्र स्थापित किये गये जिसमें क्रमश: 66, 32 और 20 विदेशियों को रखा गया। उन्होंने साथ ही कहा कि निरोध केंद्रों और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) में कोई संबंध नहीं है। गांधी ने बृहस्पतिवार को मोदी पर उनकी उस टिप्पणी को लेकर निशाना साधा जिसमें उन्होंने कहा था कि देश में निरोध केंद्र नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: RSS के प्रधानमंत्री भारत माता से झूठ बोलते हैं: राहुल गांधी

गांधी ने ट्वीट करते हुए आरोप लगाया,‘‘आरएसएस के प्रधानमंत्री भारत मातासे झूठ बोलते हैं।’’ उन्होंने ट्विटर पर एक वीडियो क्लिप भी डाली जिसमें मोदी कांग्रेस और उसके सहयोगियों तथा ‘‘शहरी नक्सलियों’’ पर यह अफवाह फैलाने का आरोप लगा रहे हैं कि मुस्लिमों को निरोध केंद्रों में भेजा जाएगा। क्लिप में असम में एक कथित निरोध केंद्र बनते हुए भी दिखाया गया है। पात्रा ने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि उन्हें कुछ भी पता नहीं है लेकिन सभी मुद्दों पर बोलते हैं।  भाजपा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘राहुल गांधी को किसी भी विषय पर जानकारी नहीं है लेकिन उन्हें सभी विषय पर बोलना है। उनका हमले का इरादा न तो एनपीआर के मुद्दे को लेकर है और न ही सीएए के मुद्दे को लेकर बल्कि यह मोदी पर निशाना साधने के लिए है। कांग्रेस पार्टी को यह बर्दाश्त नहीं हो रहा कि एक चाय वाला कैसे प्रधानमंत्री बन गया।’’ पात्रा ने राहुल गांधी को ‘‘झूठा’ और मोदी को काम करने वाला बताते हुए कहा कि भारत के लोग बुद्धिमान हैं और उन्हें पता है कि एक झूठे और एक काम करने वाले के बीच अंतर कैसे करना है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।